बॉबी छाबड़ा की मदद कर रहे टीआई और 4 पुलिसकर्मी निलंबित

0

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर के कुख्यात भूमाफिया बॉबी छाबड़ा (Suspended For Helping Bobby Chhabra) को इंदौर पुलिस ने बीती 14 फ़रवरी को गिरफ्तार कर लिया था। बॉबी छाबड़ा (Bobby Chhabra Indore) पिछले कई दिनों से फरार चल रहा था और पुलिस उसे जगह-जगह तलाश रही थी। 14 फ़रवरी को आखिरकार पुलिस के हाथ बड़ी सफलता लग ही गई और फरार बॉबी छाबड़ा पुलिस के हत्थे चढ़ गया। वैलेंटाइन डे के मौके पर इंदौर पुलिस ने ‘ऑपरेशन क्लीन इंदौर’ (Operation Clean Indore) के तहत बॉबी छाबड़ा को हिरासत में लिया था। बता दें कि कुख्यात भूमाफिया बॉबी छाबड़ा (Land Mafia Bobby Chhabra) को इंदौर पुलिस 3 मामलों में तलाश रही थी। बॉबी छाबड़ा (Bobby Chhabra arrested) के ऊपर 10 हजार रुपए की इनामी राशि भी घोषित की गई थी जिसे इंदौर पुलिस (Indore Police)  ने बढाकर 20 हजार कर दी थी। वहीं अब इस मामले में नया खुलासा हुआ है। दरअसल मिली जानकारी के अनुसार बॉबी छाबड़ा (TI helping Bobby Chhabra)  की गुपचुप तरीके से मदद करने और उसके लिए सुविधाएं मुहैया करवाने के मामले में खजराना थाने के टीआई प्रीतमसिंह ठाकुर (Pritam Singh Thakur) सहित 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।

Indore : भूमाफिया बॉबी छाबड़ा को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गौरतलब है कि पुलिसकर्मियों को निलंबित (Suspended For Helping Bobby Chhabra)  करने की कार्रवाई DIG रुचिवर्धन मिश्र (Ruchi Vardhan Mishra) द्वारा की गई। इस मामले में आईजी विवेक शर्मा (IG Vivek Sharma) शिकायत मिली थी कि पुलिस विभाग के कुछ अधिकारी और पुलिसकर्मी बॉबी छाबड़ा से मिले हुए हैं और उसकी गिरफ्तारी के बाद से चोरी-छिपे उसको मदद पंहुचा रहे हैं। सीधी शिकायत मिलने के बाद इस बात की पुष्टि के लिए जांच की गई और जांच में यह शिकायत सही निकली। जांच में शिकायत के सही पाए जाने पर DIG रुचिवर्धन मिश्र (Ruchi Vardhan Mishra) ने पांचों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया।

भूमाफिया बॉबी छाबड़ा एयरपोर्ट से भागा

जो 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड (Suspended For Helping Bobby Chhabra)  किए गए हैं उनमें एसआई आरएस दंडोतिया (RS Dandotia), आरक्षक रविकुमार (Ravi Kumar), अनुज कटारिया (Anuj Kataria) और संजू सिंह (Sanju Singh) शामिल हैं। मिली जानकारी के अनुसार ये पांचों गैरकानूनी तरीके से खजराना थाने में कुख्यात भूमाफिया बॉबी छाबड़ा की मदद कर रहे थे। इतना ही नहीं ये पांचों कपड़े, जूते और खाने की व्यवस्था भी बॉबी के लिए कर रहे थे। सिर्फ इतना ही नहीं इन्होंने जेल में बंद बॉबी की कुछ लोगों से मोबाइल फ़ोन पर भी बात करवाई जो कानून के खिलाफ है। इन पांचों ने मिलकर बॉबी को किसी आरोपी की तरह नहीं बल्कि मेहमान की तरह रखा, उसकी खातिरदारी की और उसे सारी सुविधाएं मुहैया करवाई। जब इस बात की शिकायत मिली तो DIG खुद औचक निरिक्षण पर खजराना थाने पहुंची जहां उन्हें थाना परिसर के अंदर ही तीन लोग छुपकर बैठे हुए दिखाई दिए। चूंकि डीआईजी (DIG) अचानक ही थाने पहुंची थी इस वजह से तीनों घबरा गए। जो तीन लोग परिसर में मौजूद थे उनमे एक बॉबी का मित्र, एक    महू का मिठाई व्यवसायी और एक अन्य शामिल था। शक होते ही डीआईजी ने तीनों को हिरासत में ले लिया। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने इस मामले में जांच की और पाया कि थाने के टीआई समेत 5 कर्मी बॉबी (Bobby Chhabra) की लगातार मदद क्र रहे थे। फिलहाल इस मामले की विस्तृत जांच खजराना क्षेत्र के सीएसपी को सौंपी गई है।

बता दें कि बॉबी छाबड़ा (Land mafia Bobby Chhabra) की गिरफ्तारी से पहले इंदौर नगम निगम की टीम ने कानूनी विवाद में उलझी आईडीए (IDA) की आवासीय स्कीम-171 और मजदूर पंचायत गृह निर्माण संस्था की जमीन पर बना बॉबी का अवैध ऑफिस ध्वस्त किया था। यह बॉबी छाबड़ा के खिलाफ मामूली कार्रवाई थी लेकिन ऑपरेशन क्लीन इंदौर के तहत यह पहली कार्रवाई थी। फ़िलहाल इस जमीन का प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है। बॉबी छाबड़ा (Land Mafia Bobby Chhabra) पर अवैध निर्माण, जमीन पर अवैध कब्जे करने समेत तीन मुक़दमे दर्ज हैं। इन दिनों मध्यप्रदेश सरकार भू माफियाओं के खिलाफ सघन कार्रवाई कर रही है और इसके लिए एक अभियान चला रही है। इसी अभियान के तहत तहत इंदौर के भू-माफियाओं के खिलाफ भी लगातार कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि 10 साल पहले हाउसिंग सोसायटी (Housing society) की जमीनों की धोखाधड़ी और जालसाजी के मामलों में कुख्यात भूमाफिया बॉबी छाबड़ा (Land Mafia Bobby Chhabra)  के खिलाफ पुलिस प्रशासन ने FIR दर्ज की थी। इस FIR को रद्द कराने के लिए एक यचिका भी दायर की गयी थी। पुलिस ने बॉबी के खिलाफ विभिन्न हाउसिंग सोसायटी की सदस्यता सूची में फेरबदल करने, नए लोगों को प्लाट देने, सोसायटी की जमीन बेचने जैसे कई अन्य मामलों में प्रकरण दर्ज किए थे। बॉबी छाबड़ा (Bobby Chhabra) के खिलाफ सहकारिता विभाग के अफसर ने भी मुक़दमे दर्ज कराए थे। उन्होंने नवभारत, राजगृही, जागृति हाउसिंग सोसायटी (Housing Society) के प्लॉट में गड़बड़ी करने को लेकर बॉबी पर केस दर्ज करवाने गए थे लेकिन अधूरे दस्तावेज होने की वजह से उन्हें खाली हाथ वापस लौटना पड़ा था।

स्वच्छ शहर का तमगा बरकरार रखने के लिए जी-मीडिया का आयोजन

Prabhat Jain

Share.