इसलिए सीईटी काउंसलिंग में नहीं बैठने दिया

0

इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय द्वारा विभिन्न विभागों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाने वाली सीईटी परीक्षा की काउंसलिंग में नहीं बैठने देने पर कुछ छात्राओं ने कलेक्टर से गुहार लगाई| छात्राओं का आरोप था कि उनकी एक छोटी सी गलती की वजह से उन्हें परीक्षा के बाद हुई पहली काउंसलिंग में नहीं बैठने दिया गया, जो उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ है| छात्राओं ने कलेक्टर से शिकायत करते हुए बताया कि उन्होंने मूल निवासी के स्थान पर फॉर्म में गलत चयन कर दिया था, इसके बाद उन्हें पहली काउंसलिंग में बैठने से विश्वविद्यालय प्रबंधन ने रोक दिया|

छात्राओं की शिकायत के बाद कलेक्टर ने कुलसचिव से मामले को लेकर चर्चा की| चूंकि यह जानकर की गई गलती थी, इस कारण कुलसचिव ने छात्राओं को आगामी काउंसलिंग में मौका देने की बात कही| कलेक्टर ने बताया कि प्रशासन विश्वविद्यालय के साथ समन्वय करते हुए कार्य कर रहा है| मामले में जो भी जरूरी कार्रवाई होगी, वह विश्वविद्यालय स्तर पर ही होगी|

इंदौर की देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में सीईटी की काउंसलिंग में गलत जानकारी के कारण करीब 50 से अधिक विद्यार्थी नहीं बैठ पाए थे, लेकिन इसके लिए विश्वविद्यालय नियमों का हवाला दे रहा है| जो छात्र वंचित रह गए हैं, अब उन्हें दूसरी काउंसलिंग में ही मौका मिल सकेगा|

Share.