फर्जी कंपनी ने ब्लैक लिस्टेड कर्मचारियों को बेची अपनी फ्रेंचाइज़ी

0

मध्यप्रदेश की वाणिज्यिक राजधानी इंदौर में फर्जी एडवाइज़री (Fake Advisory In Indore) कंपनियों द्वारा निवेशकों से धोखाधड़ी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। ऐसे में कुछ कंपनियां, जिन पर पुलिस और सेबी की टेढ़ी निगाहें हैं, वे लगातार चेतावनी और कार्रवाई के बाद भी अपनी करतूतों से बाज़ नहीं आ रही हैं। पुलिस अब एक बार फिर ऐसी ही एक फर्जी कंपनी (ProfitGuru Fake Advisory) पर अपना शिकंजा कसने की तैयारी में है।

इंदौर में ग्राहकों को धोखा दे रही फर्जी एडवाइज़री कंपनियां

शेयर बाज़ार में निवेश के नाम पर तगड़ा मुनाफा दिलाने के सब्ज़बाग दिखाने वाली फर्जी एडवाइज़री कंपनी ‘प्रॉफिट गुरु’ (ProfitGuru Fake Advisory) के खिलाफ कुछ माह पहले ही इंदौर पुलिस ने कार्रवाई की थी। इस कंपनी के संचालन में पुलिस ने ठगी करने वाले एक गिरोह को पकड़ा था, जिसमें एक युवती भी शामिल थी।

इस मामले (ProfitGuru Fake Advisory) में क्राइम ब्रांच की टीम ने घेराबंदी कर पलासिया में रहने वाले सतीश पिता अरुण शुक्ला, सुमित उर्फ विवेक शर्मा, प्रेम मीणा उर्फ रवि वर्मा, स्वाति उर्फ रिद्दिमा शर्मा उर्फ ऋषिका शर्मा, राहुल उर्फ अंकुश चौहान और चिन्मय भट्टाचार्य उर्फ आदित्य प्रताप के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार किया था, लेकिन बावजूद इसके इस कंपनी द्वारा अभी भी नियमों को धता बताकर व्यापार जारी है। सेबी के नियमानुसार हर कंपनी को इन दिशा-निर्देशों का पालन करना ज़रूरी है|

फर्जी कंपनी Ways2Capital का किया SEBI ने लाइसेंस निरस्त

# कोई भी एडवाइज़री कंपनी फ्रेंचाइज़ी मॉडल पर कार्य नहीं कर सकती है, लेकिन इस कंपनी ने अपनी फ्रेंचाइज़ी दूसरों को बेच दी।

# जहां भी कंपनी का दफ्तर हो, वहां कंपनी के नाम और उसके पते का बोर्ड लगाना अनिवार्य है, लेकिन इस कंपनी के इंदौर में एक से अधिक दफ्तर होने के बाद भी किसी की जानकारी स्पष्ट नहीं है।

# कभी भी एडवाइज़री कंपनी में प्रतिबंधित कंपनी के कर्मचारी कार्य नहीं कर सकते हैं, लेकिन ‘प्रॉफिट गुरु’ ने प्रतिबंधित कंपनी ‘वे-टू-केपिटल’ और ‘जोएट रिसर्च’ कंपनी के कर्मचारियों को ही अपनी फ्रेंचाइज़ी दे दी।

Talented View : ग़लतफ़हमी और शक से होगा इंदौर का नुकसान

इस तरह कई नियमों को ताक पर रखकर इंदौर में इस फर्जी कंपनी द्वारा निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की जा रही है। वहीं पुलिस ने भी सेबी द्वारा दी गई जानकारियों के आधार पर इस कंपनी के खिलाफ एक्शन लेने की तैयारी कर ली है।

इंदौर में फर्जी एडवाइज़री कंपनी को लेकर पुलिस सख्त हो गई है। अब देखना होगा कि निवेशकों के साथ धोखा करने वाले और नियम विरुद्ध व्यापार करने वालों पर पुलिस का शिकंजा कब कसेगा।

Share.