जूते- चप्पल की माला पहनाने की थी तैयारी

0

देपालपुर से बीजेपी विधायक मनोज पटेल के लिए लगता है मिशन -2018 आसान टास्क नहीं है | विधायक पटेल के समक्ष विकास यात्रा के दौरान उस समय अप्रिय स्थिति निर्मित हो गई, जब वे 500 की आबादी वाले गांव खरसौदा पहुंचे | इस गुर्जर बाहुल्य आबादी वाले गांव में विधायक को जूते- चप्पल की माला पहनाने  की तैयारी थी, लेकिन पुलिस ने मौके पर सक्रियता दिखाते हुए माला पहले ही जब्त कर ली | इस घटना ने विधायक के कामकाज की पोल खोलकर रख दी है |

लगते रहे हैं आरोप

विधायक मनोज पटेल पर पहले से निष्क्रियता के आरोप लगते रहे हैं, लेकिन किसी को भी इस बात का भरोसा नहीं था कि चुनाव के 5 माह पहले से ही उनका इतना तगड़ा विरोध शुरू हो जाएगा | पटेल को अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ता और गांव के युवाओं का विरोध झेलना पड़ेगा और मुर्दाबाद जैसे नारे भी सुनना पड़ेंगे| दरअसल, विधायक पटेल इस दौरान कुछ -कुछ डरे-सहमे भी नजर आए| विधायक पर ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि उनसे जब सड़क को लेकर जानकारी मांगी गई तो वे सही जवाब नहीं दे सके |

3 थानों की पुलिस पहुंची मौके पर

विधायक मनोज पटेल के विरोध और नारेबाजी की खबर लगते ही गौतमपुरा, देपालपुर और बेटमा पुलिस मौके पर पहुंची और मामले को शांत किया| दरअसल ग्राम खरसोड़ा के लोग मूलभूत सुविधा के लिए तरस रहे हैं | पूरे 5 साल होने आ गए, परंतु उन्होंने एक भी वादा पूरा नहीं किया, जिससे नाराज होकर ग्रामीणजन विधायक के खिलाफ होकर जूते-चप्पल स्वागत के बतौर टांग दिए गए।

Share.