स्टेट प्रेस क्लब के आयोजन में बोले विद्वान

0

स्टेट प्रेस क्लब, मध्यप्रदेश द्वारा हिंदी पत्रकारिता के गौरव राजेन्द्र माथुर के 26वें पुण्य स्मरण पर राष्ट्रीय परिसंवाद आयोजित किया गया। परिसंवाद में मुख्य वक्ता के रूप में जम्मू प्रेस क्लब के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार और वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल, विशेष अतिथि डॉ.जयंत सोनवलकर और प्रो. डॉ.राजीव शर्मा ने ‘पत्रकारिता और चुनौतियां’ विषय पर विचार साझा किए।

जम्मू प्रेस क्लब के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार ने परिसंवाद के विषय पर अपनी बात शुरू करने से पहले जम्मू-कश्मीर में ‘पत्रकारिता और चुनौतियां’ विषय पर 10 मिनिट की एक डाक्यूमेंट्री दिखाई| उन्होंने बताया कि किन परिस्थितियों में जान जोखिम में डाल वहां के साथी पत्रकारिता कर रहे हैं। उन्होंने वर्तमान पत्रकारिता के दौर पर भी चिंता जाहिर करते हुए कई सवाल खड़े किए, जिसके बाद ये कहना आसान होगा की विशुध्द पत्रकारिता पर सोशल मीडिया पत्रकारिता हावी हो रही है  जो कि देश और समाज के लिए हित में नहीं है।

उन्होंने कहा कि, अब गंभीरता से सोचने का समय आ गया है कि पत्रकारिता किस दिशा की ओर जा रही है। पत्रकारिता के लिए सबसे बड़ी चुनौती है कि ऑनलाइन मीडिया और सोशल मीडिया के भी मापदंड हो, और ये सरकार को तय करना है कि सोशल और ऑनलाइन मीडिया का दायरा क्या हो।

वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल, नई दिल्ली ने ‘पत्रकारिता और चुनौतिया’ विषय पर कहा कि वर्तमान परिदृश्य में तीन प्रमुख चुनौतियां पत्रकारिता के समक्ष खड़ी है जिसमें पहली सबसे बड़ी चुनौती खबरों के बाद होने वाली रंजिश और असुरक्षा है। पिछले कुछ समय से देशभर में मीडियाकर्मियों के साथ दुर्व्यवहार, हत्या, उत्पीड़न और इस तरह के सताने के मामले अचानक बढ़ गए। उन्होंने इस मामले में सीधे-सीधे नेताओं को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि नेता अपनी नकारात्मक छवि वाली खबरों से उद्वेलित होकर इस तरह के कामों को अंजाम दे रहे हैं। ये एक बाहरी चुनौती है जो हमारे सिस्टम ने पैदा की है, जिसका मुकाबला हमें एक बार और संगठित होकर करना पड़ेगा।

परिसंवाद में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के डॉ. जयंत सोनवलकर ने कहा कि भले ही आने वाला समय ऑनलाइन मीडिया का हो, लेकिन प्रिंट मीडिया का वजूद हमेशा रहेगा। उन्होंने कहा कि रिसर्च से पता चला है कि आने वाले 2070 तक शनैः शनैः प्रिंट मीडिया समाप्त हो जाएगा, लेकिन मुझे नहीं लगता कि भारत में प्रिंट मीडिया का स्थान सोशल मीडिया ले सकेगा।

इस अवसर पर जनसंपर्क विभाग मप्र द्वारा घोषित राज्य स्तरीय पत्रकारिता पुरस्कार के लिए चयनित इंदौर के वरिष्ठ पत्रकार रमण रावल और उज्जैन के वरिष्ठ पत्रकार संदीप कुलश्रेष्ठ का मुख्य अतिथि अश्निनी कुमार ने अभिनंदन किया। संचालन स्टेट प्रेस क्लब,मध्यप्रदेश के अध्यक्ष प्रवीण कुमार खारीवाल ने किया। कार्यक्रम संयोजक अतुल लागू, मीना राणा शाह, राकेश द्विवेदी, अशोक समन, विजय गुंजाल, अजय भट्ट, योगेश राठौर, गौरीशंकर दुबे, आकाश चौकसे ने अतिथियों का स्वागत किया। कीर्ति राणा, सुरेन्द्र बंसल, डॉ.कमल हेतावल और भरत शर्मा ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किए। कार्यक्रम का आभार वीमन्स प्रेस क्लब, मध्यप्रदेश की अध्यक्ष शीतल रॉय ने माना।

Share.