website counter widget

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उनकी राह का रोड़ा बन गया…

0

पश्चिम बंगाल में भाजपा को 18 सीटें दिलवाने वाले भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) के समर्थकों का मानना था कि इस बार उन्हें ही भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर सुशोभित किया जाएगा परन्तु राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उनकी राह का रोड़ा बन गया |

इंदौर में बदमाशों के हौसले बुलंद, बैंक में लूट

दरअसल, अपने बेहतर प्रदर्शन को लेकर कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) अध्यक्ष पद पाने के लिए लगी दौड़ में बहुत आगे निकल गए थे| वे इस पद को पाने के करीब ही थे कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने उनका विरोध कर रास्ता रोक दिया।

जेपी नड्डा () का नाम पहले से चल रहा था। जेपी नड्डा के नाम पर संघ सहमत था और जब उन्हें मंत्रालय में मंत्री नहीं बनाया, तब भी यही कयास थे कि जेपी नड्डा बड़ी दौड़ में आगे हैं। जेपी नड्डा के कार्यकारी अध्यक्ष बनते ही कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) समर्थकों का मुंह छोटा हो गया,  बड़ी आस और विश्वास से इस पद के लिए कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) के लिए समर्थक देख रहे थे और जबसे भाजपा की पार्लियामेंट की बैठक चल रही थी, तभी से यह विश्वास था कि कहीं न कहीं अमित शाह के कार्यकाल बढ़ने के बाद कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में कैलाश विजयवर्गीय का नाम सामने आएगा।

‘फादर्स डे’ पर बेटी ने दी पिता को मुखाग्नि, हुईं आंखें नम

दरअसल, भारतीय जनता पार्टी के दो कार्यकाल राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पूरे कर चुके हैं। सत्ता में नरेन्द्र मोदी की सरकार के साथ संगठन ने जिस तरह से काम किया और मोदी-शाह की जोड़ी ने देशभर में कई प्रदेशों की सरकार भाजपा को दी और जिस तरह से भाजपा की पार्लियामेंट्री बोर्ड ने कुछ ही दिन पहले अमित शाह का कार्यकाल 6 माह के लिए बढ़ाया था और कुछ प्रदेशों के विधानसभा चुनाव में जीत का हवाला देकर कहा था कि अभी भाजपा के लिए बहुत कुछ बाकी है|

तब लगा था कि कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने में अभी 6 माह और बाकी है। गत कुछ माह से लग रहा था कि विजयवर्गीय को बड़ी जिम्मेदारी भाजपा देने वाली है, लेकिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से पुरानी उतरी हुई पटरी संभवत: भाजपा के इस सबसे बड़े पद के ताज में बाधा बनकर सामने आई।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी इस पद को पाने के लिए भय्याजी जोशी के माध्यम से जी-जान से लगे थे, लेकिन जब वे नाकाम हो गए तो उन्होंने भी कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) के नाम का विरोध करना शुरू कर दिया। प्रदेश के दो बड़े नेता शिवराजसिंह चौहान और कैलाश विजयवर्गीय के बीच बनती नहीं है| कल जब जेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष चुना तो शिवराजसिंह चौहान के चेहरे पर अलग ही चमक दिखाई दे रही थी।

हत्या कर कान्ह नदी में शव फेंकने की आशंका

किया स्वागत

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष पद पर जेपी नड्डा की नियुक्ति की जैसे ही घोषणा हुई वैसे ही उन्हें बधाई देने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एक साथ पहुंचे। दोनों ने एक के बाद एक दुपट्टा डालकर, बुके देकर स्वागत किया। इस दौरान कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) और जेपी नड्डा मुस्कान के साथ एक-दूजे से मिले।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.