इंदौर नगर निगम का बजट पेश

0

इंदौर नगर निगम का बजट भाषण महापौर मालिनी गौड़ द्वारा दिया गया| बजट पेश होने से पहले विपक्ष ने जमकर नारेबाजी की| पहले कांग्रेसी पार्षद महापौर के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे, इसके बाद हंगामा कर रहे पार्षदों को सभापति ने चेतावनी देते हुए कहा कि यह शहर के हित का मामला है, जिसे नहीं सुनना है वे बाहर जा सकते हैं| महापौर मालिनी गौड़ ने बजट भाषण में इंदौर को ग्रीन इंदौर बनाने व स्वच्छ इंदौर बनाने के बाद सेफ इंदौर बनाने की घोषणा की, उन्होंने कहा कि हम जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन को साथ लेकर काम करेंगे|

महापौर ने कहा कि इंदौर में जो सफाई अभियान चला है व सफाई हुई है उससे प्रभावित होकर इंदौर में संयुक्त राष्ट्र संघ की एशिया पैसेफिक कांफ्रेंस  का आयोजन हो रहा है| इसमें 35 देशों के 400 से अधिक प्रतिनिधि शामिल होंगे, ये शहर के लिए गौरव की बात है| महापौर ने 4824 करोड73 लाख 67 हजार रुपए का बजट प्रस्तुत किया, जिसमें  92 करोड़ 38 लाख 84 हजार रुपए का घाटा है|

मेयर ने बजट भाषण में बताया कि अब डोर टू डोर कचरा कलेक्शन का शुल्क 60 रुपए से बढ़ाकर 100 रुपए कर दिया है, वहीं व्यावसायिक संस्थानों के लिए शुल्क 90 रुपए से बढ़ाकर 150 रुपए कर दिया गया है| इस फैसले से सामान्य लोगों के साथ व्यावसायिक संस्थानों को भी झटका लगा है|

बजट में आगे बताया कि शहर की 50 कॉलोनियों और टाउनशिप में जीरो वेस्ट मॉडल सालभर में लागू किया जाएगा| शहर के आठ चौराहों को चौड़ा किया जाएगा तथा लोकमान्य नगर के 750 घरों से निगम सप्ताह में दो बार सूखा कचरा खरीदेगा|

गौरतलब है कि बजट की घोषणा होने के पहले ही विपक्षियों ने सरवटे बस स्टैंड क्षेत्र में इमारत गिरने के हादसे को लेकर जमकर हंगामा किया|

Share.