website counter widget

खबरों ने खोली जिला अस्पताल की आंखे

0

इंदौर शहर में स्थित सरकारी अस्पताल का महत्व तब ज्यादा पता चला, जब वहां उपचार को बंद कर दिया गया। हमेशा सरकारी सुविधाओं पर उंगली उठाना हम लोगों की आदत बन गयी है। सरकार की सुविधा हमें कभी पसंद नहीं आती, लेकिन सरकारी नौकरी सभी की पहली पसंद होती है। लेकिन इस बार सुविधा का महत्व भी लोगों को समझ आ गया।

चन्दन नगर जिला अस्पताल में 8 मार्च से ओपीडी (OPD) और एमएलसी (MLC) की सुविधाओं को बंद कर दिया गया था। क्षेत्र से संबंधित इमरजेंसी केस और तत्काल इलाज के लिए जिला अस्पताल नहीं बल्कि एमवायएच (MYH) का रुख करना पड़ रहा था।जिससे कई मरीजों की हालत के साथ-साथ उनके साथ आए परिजन की तबियत भी ख़राब हो रही थी। इसके साथ ही साथ शवों को लेकर भी यहां से वहां भटकना पड़ रहा था। पुलिस को भी दुर्घटना की स्थिति में प्राथमिक उपचार के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ रही थी। जिसके कारण माहौल भी आक्रोशित बन गया था।

क्षेत्रीय रहवासी पहले तो जिला अस्पताल में बुराइयों के सिवा कुछ और नहीं देखते थे, लेकिन जब जिला अस्पताल में सुविधाएं बंद कर दी गईं तो उसके बाद ही समझ आया की सरकारी सुविधाएं कैसी भी हों जरुरत में काम आ जाती है। सिविल सर्जन एमपी शर्मा के ओपीडी और एमएलसी की सुविधाओं को बंद करने के बाद आई समस्या को गंभीर रूप से समझा गया और इसे अब पुनः शुरू करने का फैसला लिया गया। सिविल सर्जन के द्वारा 16 मार्च से इसे फिर से शुरू कर दिया जाएगा। जिसके लिए लिखित पत्र जारी किया गया है। लोगों को आ रही समस्या को मीडिया ने अपनी खबरों के जरिये बताया और उसका असर भी देखने को मिला।

सुमित

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Loading...
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.