इंदौर में हो रहा नेशनल होम्योपैथिक सेमिनार का आयोजन

0

अभी तक लोगों की होम्योपैथी के बारे में यही अवधारणा थी कि इससे रोगों को जल्दी ठीक नहीं किया जा सकता। मतलब होम्योपैथी किसी भी रोग को ठीक करने में ज्यादा समय लेती है। इसलिए इसे सर्दी, जुकाम, बुखार जैसे रोगों के लिए असरदार और कारगर नहीं समझा जाता। लेकिन अब सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी होम्योपैथी को लेकर लोग जागरूक हो रहे हैं। अब इसे रोज़मर्रा की बीमारियों से लेकर जटिल से जटिल रोगों तक के लिए सर्वश्रेष्ठ उपचार में कारगार माना जाने लगा है। दरअसल होम्योपैथी पद्धत्ति कई असाध्य रोगों का सफलता से इलाज करती है इस बात को समझाने के लिए और लोगों होम्योपैथी इलाज के प्रति जागरूक करने के लिए इंदौर शहर की ‘शिक्षा द होम्योपैथिक अकेडमी’ अखिल भारतीय स्तर का एक होम्योपैथिक सेमिनार (National Homoeopathic Seminar) और “जागो” अभियान की शुरुआत करने जा रही है।

गौरतलब है कि ‘शिक्षा द होम्योपैथिक अकेडमी’ इस तरह के होम्योपैथिक सेमिनार (National Homoeopathic Seminar) आयोजित करती रहती है और लोगों को होम्योपैथी के प्रति जागरूक करती रहती है। इस बार इस सेमिनार के साथ-साथ ‘जागो’ अभियान का भी शुभारंभ किया जाएगा। इस सेमिनार का आयोजन 8 दिसंबर 2019 दिन रविवार को किया जाएगा। यह सेमिनार पूरी तरह से निःशुल्क है। हालांकि इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है। इस सेमिनार को कोई भी व्यक्ति अटेंड कर सकता है। हालांकि इस सेमिनार को अटेंड करने के लिए पहले रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इस बार आयोजित होने वाले इस सेमिनार में डॉ. गौरांग गायकवाड़ मुख्य वक्ता के तौर पर शामिल होंगे। इस सेमिनार की शुरुआत प्रातः 9 बजे से इंदौर के संतोष सभागृह रानीसती गेट में होगी।

इंदौर शहर की अग्रणी सामाजिक एवं स्वास्थ्य संस्था “शिक्षा द होम्योपैथिक अकेडमी” द्वारा आयोजित अखिल भारतीय स्तर के इस होम्योपैथिक सेमिनार (National Homoeopathic Seminar) में होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति के उन्नत आयामों पर चर्चा की जाएगी। इस एक दिवसीय सेमिनार में देश भर के 250 से भी ज्यादा डॉक्टर्स शामिल हो रहे हैं। डॉ. गौरांग यूनाइटेड किंगडम, स्विट्ज़रलैंड, सर्बिआ जैसे देशो में भी आधुनिक होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति पर व्याख्यान दे चुके हैं। डॉ. गौरांग ने “Decoding Mental Rubrics” और “Materia Medica Of Nosodes And Sarcodes” नामक पुस्तकें भी लिखी हैं, जो कि होम्योपैथी की दुनिया में बेहद प्रसिद्ध हैं। वहीं लोगों को होम्योपैथी के प्रति जागरूक करने और उन्हें इससे जुड़ी समस्त जानकारियों से अवगत कराने के लिए “जागो” अभियान शुरू किया जाएगा।

इस सेमिनार (National Homoeopathic Seminar) और “जागो” अभियान के आयोजन में इंदौर शहर की स्वच्छता और पर्यावरण का भी पूरा ध्यान रखा गया है। इसलिए इस सेमिनार को “ज़ीरो वेस्ट” की थीम पर आयोजित किया जा रहा है। इस सेमिनार में मुख्य अतिथि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट होंगे। वहीं शाम 6 बजे से होम्योपैथी की जनजागरूकता के लिए ‘जागो’ अभियान की शुरुआत की जाएगी। इस कार्यक्रम में इंदौर अन्तर्राष्टीय हवाई अड्डे की निदेशक आर्यमा सान्याल, ट्रैफिक डीएसपी उमाकांत चौधरी समेत अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद रहेंगे। सदैव निष्पक्ष पत्रकारिता करने वाला टैलेंटेड इंडिया न्यूज़ स्वास्थ्य एवं जनकल्याण के इस कार्यक्रम में शिक्षा होम्योपैथी अकादमी के साथ सहभागिता कर रहा है।

Prabhat Jain

Share.