सांसद और विधायक पहुंचे अस्पताल

0

मंदसौर में स्कूली छात्रा के साथ हुई दुष्कर्म की घटना ने पूरे प्रदेश को हिलाकर रख दिया है| पुलिस ने घटना को अंजाम देने वाले दरिंदे को सलाखों के पीछे भेज दिया है, लेकिन घटना को लेकर लोगों में गुस्सा अभी भी कायम है| मंदसौर-नीमच के भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता, विधायक और भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष उषा ठाकुर, विधायक सुदर्शन गुप्ता और पूर्व विधायक जीतू जिराती ने एमवाय अस्पताल पहुंचकर पीड़िता का हाल जाना और परिजन से चर्चा की | दुष्कर्म पीड़िता की हालत देखकर सत्ताधारी नेता भी अपना गुस्सा नहीं रोक सके और दरिंदे को फांसी देने की मांग की |

आंखों में आ गए आंसू

पीड़िता का हाल देखने के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता ने कहा कि पीड़िता का रुदन असहनीय है, जिसे सुनकर आंसू रोक पाना भी  मुश्किल हो गया| सरकार और पुलिस ने इस घटना के बाद तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी को अपनी गिरफ्त में ले लिया है, जो पुलिस की मुस्तैदी का परिचायक है | इस गंभीर मामले को फास्टट्रैक कोर्ट में चलाने को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह से चर्चा की गई है| मुख्यमंत्री ने भी निर्देश दे दिए हैं और अस्पताल प्रशासन को फोन कर मासूम की तबीयत पूछी है | बच्ची के परिजन अस्पताल में चल रहे उपचार से संतुष्ट हैं|

पूरे समाज के लिए चिंता

सांसद गुप्ता ने कहा कि मंदसौर की बिटिया के साथ हुई घटना पूरे समाज के लिए चिंता का विषय है | सामाजिक मूल्यों में यह कैसी गिरावट आई है और यह कैसा वहशीपन है| 7 साल की बेटी के साथ जो दरिंदगीपूर्ण व्यवहार हुआ, उसे बयान भी नहीं किया जा सकता है| अमानवीयता ने सारी हदें पार कर दी है,पूरा समाज आक्रोशित है| मुझे लगता है कि आरोपी के लिए फांसी की सज़ा भी कम है |

सरेराह फांसी की मांग

घटना से गुस्साई विधायक उषा ठाकुर ने कहा कि दरिंदे को सरेराह, सार्वजनिक चौराहे पर फांसी दी जानी चाहिए और उसका अंतिम संस्कार भी नहीं होना चाहिए| उन्होंने कहा कि इस तरह का कार्य संपूर्ण मनुष्यता के खिलाफ है | ऐसे लोगों के लिए और क्या कठोर दंड हो सकता है, इसकी चिंता भी समाज को करनी होगी|

मां ने कहा, फांसी हो

पीड़िता की मां ने कहा कि उनकी बेटी की तबीयत अब पहले से बेहतर है | उसने पानी और चिप्स खाने के लिए मांगी है और उपचार ठीक चल रहा है| चिकित्सकों का कहना है कि वह 7  दिनों के भीतर अच्छा रिस्पॉन्स करेगी| मां ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि दरिंदे ने मेरी बेटी को जो दर्द दिया है, उसे उससे भी बड़ी सज़ा होनी चाहिए| उसे फांसी से कम सज़ा नहीं होनी चाहिए |

सभ्य समाज में रहने का हक नहीं

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा, “इस तरह के दरिंदों को सभ्य समाज में रहने का हक नहीं है और ऐसे लोगों को फांसी से कम सज़ा नहीं होनी चाहिए| प्रशासन आरोपी के खिलाफ सख्त से सख्त सज़ा दिलाने का पूरा प्रयास करेगा| पीड़िता मध्यप्रदेश की बेटी है और वे स्वयं उसके स्वास्थ्य पर लगातार निगरानी रखे हैं| सरकार कोशिश कर रही है कि वह पूरी तरह स्वस्थ हो जाए| इंदौर के अस्पताल में भर्ती बेटी के स्वास्थ्य की वे लगातार जानकारी ले रहे हैं|”

Share.