आकाश के बाद अब व्यापारियों का नगर निगम से विवाद

0

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और इंदौर के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3 से विधायक आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के अधिकारी धीरेंद्र बायस पर बैट से हमला किया था और बाद में समर्थकों ने उनके कपड़े तक फाड़ दिए थे | इसके बाद एमजी रोड थाना पुलिस ने आकाश को गिरफ़्तार कर लिया था|  आकाश के बाद अब व्यापारियों की निगम से भिड़ंत (56 Dukan Shop Owners And Nagar Nigam Officers Dispute) हो गई|

Video : मोदी की फटकार पर विजयवर्गीय ने कहा….

प्राप्त जानकारी के अनुसार, इंदौर नगर निगम के अधिकारियों का 56 दुकान के व्यापारियों के साथ विवाद (56 Dukan Shop Owners And Nagar Nigam Officers Dispute) हो गया। इस विवाद का पटाक्षेप इस फैसले के साथ हुआ कि निगम के द्वारा व्यापारियों को यह चेतावनी दी गई है कि दो दिन के अन्दर 56 दुकान में चलने वाली सभी होटलों में किचन में सिल्ट चेम्बर बनाए अन्यथा सख्त कार्रवाई की जाएगी।

नगर निगम के अधिकारियों के पास लगातार 56 दुकान क्षेत्र में स्टॉर्म वाटर लाइन और सीवरेज लाइन चौक होने की शिकायत आ रही थी। इस शिकायत के आधार पर जब जांच की गई तो यह तथ्य सामने आया कि 56 दुकान (56 Dukan Shop Owners And Nagar Nigam Officers Dispute) में जो होटले चलती है उन होटलों के संचालकों के द्वारा किचन में भोजन एवं अन्य सामान बनाने के दौरान जो खाद्य पदार्थ वेस्टेज बचता है, उसे डस्टबिन में डालने के बजाय सीवरेज लाइन में बहा दिया जाता है, जिसके कारण यह लाइन चोक हो जाती है। इसी प्रकार 56 दुकान में जो स्ट्राम वॉटर लाइन डाली गई है वह भी वहां होटलों से सामान खरीदकर खाने वाले नागरिकों के द्वारा सामान फेंक दिए जाने के बाद सामान इस लाइन में जाकर फंस जाने से चोक हो जाती है।

यह स्थिति सामने आने पर नगर निगम के पंचम की फेल झोनल कार्यालय के झोनल अधिकारी वैभव देवलासे अपनी टीम के साथ 56 दुकान पर पहुंचे, वहां जाकर उन्होंने व्यापारियों के सामने यह स्थिति रखी और साफ शब्दों में कहा कि अब हमें आप पर कार्रवाई करना पड़ेगी।

Video : आकाश विजयवर्गीय पर बना ‘Haan Main Bhi Ballebaj Hu Song’ हुआ वायरल

नगर निगम की इस टीम के द्वारा 56 दुकान क्षेत्र में संचालित होटल पुष्पक पर सबसे पहले कार्रवाई की गई। इस स्थान पर इस नाम से एक के पास एक दो होटले चल रही है, इन दोनों होटलों में अन्दर किचन में गंदगी मिली और खाद्य पदार्थ को सीवरेज लाइन में डालते हुए पाया गया। इस पर निगम के द्वारा इन दोनों होटलों का 11-11 हजार रु. का चालान बनाकर हाथोंहाथ जुर्माने की राशि वसूल कर ली गई।

जैसे ही नगर निगम की टीम ने कार्रवाई करने के तेवर दिखाए वैसे ही व्यापारी निगम के खिलाफ लामबंद होने लगे। इन व्यापारियों के द्वारा एकजुट होकर निगम की टीम पर दबाव बनाया गया।

आकाश से ज्यादा कैलाश विजयवर्गीय मुश्किल में

इस दबाव के आगे घुटने टेकते हुए निगम की टीम ने तत्काल कार्रवाई न कर इन 56 दुकान के कारोबारियों को चेतावनी दे दी। इस चेतावनी में इनसे कहा गया कि आप दो दिन के अन्दर अपनी-अपनी दुकान के किचन के अन्दर सिल्ट चेम्बर बना ले, यह चेम्बर बन जाने से खाद्य पदार्थ सीवरेज की लाइन में नहीं जाएगा और केवल पानी ही जा सकेगा। यदि दो दिन में व्यापारियों के द्वारा यह चेम्बर नहीं बनाए गए तो उन पर सख्त और सीधी कार्रवाई की जाएगी।

Share.