मतदाता सूची में मिली कई गड़बड़ियां

0

मतदाता सूची में गड़बड़ी कोई नई बात नहीं है| पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें कभी नाम ग़लत तो कभी पता ग़लत मिला है, लेकिन मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में मतदाता सूची में एक या दो नहीं बल्कि कई गड़बड़ियां हुई हैं| जिन मतदाताओं की मौत के बाद उनके नाम दो साल पहले सूची से कटवाने के लिए आवेदन दिया था, वे अब भी बरकरार हैं|

शहर के कई नए मतदाता, जिनका नाम मतदाता सूची में जोड़ना चाहिए था, उनका नाम अभी तक नहीं जोड़ा गया है और पुराने लोगों के नाम भी हटाए नहीं गए हैं, जिनकी मृत्यु हो गई है| मतदाता सूची में गड़बड़ी मिलने के बाद निर्वाचन आयोग ने कलेक्टर को जिम्मेदार ठहराया है और 20 जून तक नई अपडेट सूची जमा करने का आदेश दिया है| यदि समय पर अपडेट सूची जारी नहीं की गई तो अधिकारियों की परेशानियां बढ़ सकती हैं|

विधानसभा क्रमांक 1 में रहने वाले महेंद्र ने बताया कि उनके पिता रामअवतार पाठक की मौत अक्टूबर 2014 में एवं माता की मौत जुलाई 2015 में हो गई थी| माता-पिता की मौत के बाद महेंद्र ने नाम कटवाने के लिए आवेदन दिया था, लेकिन अभी तक उनका नाम जुड़ा हुआ है क्योंकि जब सर्वे के दौरान बीएलओ उनके घर पहुंचा तो सूची में नाम जुड़ा हुआ था| ऐसे ही शहर की मतदाता सूची में और कई ऐसे लोगों के नाम जुड़े हुए हैं, जो या तो शहर छोड़कर चले गए हैं या फिर उनकी मौत हो चुकी है|

Share.