‘खुशी’ की हालात में सुधार

0

डीपीएस बस हादसे की शिकार मासूम ख़ुशी की हालत में अब लगातार सुधार हो रहा है| ख़ुशी हादसे के बाद एक माह तक अस्पताल में भर्ती रही| यहां ख़ुशी का उपचार डॉ.प्रशांत और डॉ. राघव ने किया और ख़ुशी को नया जीवन दिया| यह बात ख़ुशी की मां प्रार्थी बजाज ने मीडिया से कही| दरअसल, प्रार्थी का मीडिया के समक्ष आने का उद्देश्य एलोपैथी के साथ- साथ होम्योपैथी से किए जाने वाले उपचार को प्रोत्साहित करने को लेकर था| प्रार्थी का कहना है कि अस्पताल में हुए उपचार के बाद अब ख़ुशी का उपचार होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से किया जा रहा है, जिसके सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं |

मासूम ख़ुशी अब चलने लगी है

डीपीएस बस हादसे का शिकार हुई मासूम ख़ुशी अब लड़खड़ाकर चलने लगी है| मां प्रार्थी ने बताया कि पहले ख़ुशी किसी को भी पहचान नहीं पा रही थी, न ही कुछ खा पाती थी, न ही बोल पाती थी, लेकिन जब से होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से ख़ुशी का इलाज किया जा रहा है, वह पहचान रही है, खा भी रही है और थोड़ा बहुत बोल भी पा रही है| ख़ुशी के स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है|

डॉ. नूरानी कर रहे उपचार

ख़ुशी का उपचार होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से डॉ. ज़ाहिद नूरानी और उनकी बेटी निगार नूरानी कर रहे हैं | डॉ.नूरानी ने बताया कि ख़ुशी सेमी कोमा स्टेज में थी| ख़ुशी के दिमाग में पानी भरा हुआ था, जिस वजह से उसकी हालत एक सी बनी हुई थी| जब इस बात की जानकारी  मिली तो हम खुद ख़ुशी के पास पहुंचे और उपचार शुरू किया और 15 दिनों में परिणाम आने लगे|  2 माह के उपचार से ख़ुशी की हालत में सुधार है और आने वाले 4 माह में बहुत सुधार हो जाएगा|

Share.