BJP विधायक Ramesh Mendola ने कहा- कमलनाथजी म.प्र. को इटली मत बनने दीजिए

0

महिलाओं (Separate Liquor Shop For Women) को रोजगार देने और आत्मनिर्भर बनाने के लिए कमलनाथ सरकार अब प्रदेश के इंदौर, ग्वालियर और अन्य शहरों में अंग्रेजी शराब के आउटलेट खुलवाएगी। इन आउटलेट पर महिलाएं शराब बेच सकेंगी। इसे लेकर प्रदेश के मुखिया कमलनाथ का दावा है कि इसके जरिए हम प्रदेश की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं। लेकिन अब सूबे के मुखिया की इस सोच को लेकर भाजपा उनके खिलाफ उतर आई है। भाजपा ने कमलनाथ सरकार की इस योजना को प्रदेश के लिए खतरनाक बताया है। कमलनाथ सरकार की इस योजना को लेकर भाजपा विधायक रमेश मेंदोला ने ट्वीट किया है। रमेश मेंदोला ने लिखा- ‘‘महिलाओं (Separate Liquor Shop For Women) द्वारा शराब बनाना, पीना और पिलाना इटली की संस्कृति है एमपी की नहीं। कमलनाथजी मध्यप्रदेश की मातृशक्ति मधुशाला नहीं संस्कार शाला चलाती है। मातृशक्ति को मदिरा से जोड़ने के इतालवी आसुरी षडयंत्र को भाजपा कभी सफल नहीं होने देगी।”

कर्जमाफी पर CM Kamal Nath का Shivraj को जवाब, कहा….

वहीं एक (Separate Liquor Shop For Women) अन्य ट्वीट में विधायक रमेश मेंदोला (BJP MLA Ramesh Mendola) ने कांग्रेस (Congress M.P) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress Sonia Gandhi) पर भी निशाना साधा। उन्होंने लिखा- ‘‘मैंने पहले भी कहा था आज फिर दोहरा रहा हूं। सरकार इटली (Italy) से जुड़े कुछ लोगों को खुश करने के लिए एमपी को इटली की शराब की अपसंस्कृति का हिस्सा बनाना चाहती है। इटली में 50 प्रतिशत महिलाएं शराब का सेवन करती हैं, वहां शराब की 73000 डिस्टलरीज में से 18 हजार का संचालन महिलाएं करती है।‘‘ रमेश मेंदोला के ट्वीट के बाद प्रदेश में शराब (Separate Liquor Shop For Women) की सियासत गरमा गई है। भाजपा इस योजना को लेकर कमलनाथ सरकार के खिलाफ अभियान चलाने की भी तैयारी कर रही है। अब देखना होगा कि बढ़ते विरोध के बाद सरकार क्या अपने इस कदम को वापस लेती है।

IPS Meet 2020 : आईपीएस ऑफिसर जब स्टेज पर उतरे अलग किरादर में

गौरतलब है कि शहर में रहवासी क्षेत्र में खुली शराब दुकानों (Separate Liquor Shop For Women) को बंद कराने की मांग महिलाएं उठाती रहती हैं। पिछले काफी समय पहले भी महिलाओं ने इसी तरह की मांग उठाई थी जिसके चलते इंदौर शहर के सुभाषनगर क्षेत्र के रहवासी इलाके में स्थित शराब दुकान को कल्याण मिल के सामने खाली पड़े मैदान में शिफ्ट कर दिया गया था। हालांकि इसे बाद में वहां से भी हटा दिया गया। जहां एक तरफ महिलाएं शराब का और शराब दुकानों का विरोध करती हैं वहीं दूसरी तरफ सूबे की कमलनाथ सरकार महिलाओं के लिए शराब दुकाने खोलने की तयारी में है। कमलनाथ के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य के चार शहरों इंदौर (Indore), भोपाल (Bhopal) , ग्वालियर (Gwalior) और जबलपुर (Jabalpur)  में महिलाओं के लिए अलग से शराब दुकानें खोलने का फैसला लिया है। कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) महिलाओं को रोजगार देना और उन्हें आत्मनिर्भर बनाना चाहती है। इसके अलावा कमलनाथ सरकार का कहना है कि राज्य में कई महिलाएं शराब पीती हैं लेकिन उन्हें शराब खरीदने में समस्या आती है इसी वजह से महिलाओं के लिए अलग से दुकाने खोली जाएंगी। ये दुकाने सुरक्षित स्थानों जैसे शॉपिंग मॉल्स और दुकानों (Separate Liquor Shop For Women) आदि में खोली जाएंगी ताकि महिलाएं इसे आसानी से खरीद सकें। शुरुआत में ये दुकाने केवल इन्ही चार शहरों में खोली जाएगी इसके बाद राज्य के अन्य शहरों में खुलेंगी। इन दुकानों पर वाइन और विस्की के वे ब्रैंड्स मिलेंगे जो महिलाएं पसंद करती हैं। मेट्रो सिटी की तर्ज पर ये दुकाने खोली जाएगी। इन दुकानों की क्वॉलिटी को मैंटेन रखने के लिए इनमे सिर्फ विदेशी शराबें ही बेची जाएंगी। कमलनाथ सरकार जहां इन दुकानों को खोलने की तयारी कर रही है वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी इसका जमकर विरोध कर रही है। इस विरोध के बाद कांग्रेस सरकार आखिर क्या कदम उठाती है ये देखना काफी दिलचस्प होगा।

प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया का सरकार से विरोध क्या गुल खिलाएगा, भाजपा भी कूदी

Prabhat Jain

Share.