website counter widget

विश्व हिंदू परिषद ने कहा इस डिजाइन में बनेगा राममंदिर

0

इंदौर: रामजन्मभूमि विवाद पर आज सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैंसला सुना दिया है। फैंसले के तहत कोर्ट ने केंद्र को आदेश दिया है की विवादित स्थल पर राममंदिर बनाया जाए और मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन दी जाए। विश्वहिंदू परिषद् के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस फैंसले का स्वागत किया है और इसके साथ ही अब आशा जताई जा रही है की संविधान पीठ के आदेश पर बनने वाला ट्रस्ट राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर (Ram Temple) का निर्माण राम जन्मभूमि न्यास के उस डिजाइन के मुताबिक ही कराएगा जिसके अनुसार पिछले तीन दशक से पत्थर तराशे जा रहे हैं.


विश्वहिंदू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे (Vishnu Sadashiv Kokje) ने कहा, “अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद अब किसी भी पक्ष की हार या जीत का सवाल नहीं है, क्योंकि अदालत ने संतुलित फैसला सुनाते हुए सदियों पुराने मसले को अच्छी तरह हल कर दिया है. यह फैसला स्वागतयोग्य है, क्योंकि इसके तहत न्याय किया गया है.”

इसके आगे कोकजे ने कहा, “इस फैसले की रोशनी में हम समझ रहे हैं कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए जरूरी फैसले शीर्ष अदालत के आदेश पर सरकार द्वारा गठित किए जाने वाले ट्रस्ट की निगरानी में ही होने हैं. हालांकि, हम उम्मीद कर रहे हैं कि राम जन्मभूमि पर उसी डिजाइन के मुताबिक भव्य मंदिर का निर्माण किया जायेगा, जो राम जन्मभूमि न्यास ने पहले से तैयार कर रखा है. इस डिजाइन को अपनाया जाना (प्रस्तावित) ट्रस्ट के लिए सुविधाजनक भी होगा.” विहिप की आगे की योजना के बारे में पूँछे जाने पर कोकजे ने सीधा जवाब टाल दिया. उन्होंने संबंधित प्रश्न पर कहा, “फिलहाल हम अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण पर पूरा ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. बाकी विषयों पर समाज के रुख को राम मंदिर निर्माण के बाद देखा जाएगा.”

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.