लिची शर्मा 99 प्रतिशत के साथ इंदौर टॉपर

0

सीबीएसई के 12वीं बोर्ड के नतीजे गुरुवार दोपहर एक बजे जारी कर दिए गए। यह पहली बार हुआ है जब सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन के सभी जोन का रिजल्ट एक साथ जारी किया गया है। इंदौर का रिजल्ट इस बार 100 फीसदी रहा है और शहर के कई विद्यार्थियों ने 95 फीसदी से ज्यादा परसेंटाइल पाए हैं।

बाबा जय गुरुदेव राजनैतिक संगत ने बीजेपी से किया शाकाहार का आह्वान

Image result for सीबीएसई

शहर के सिका स्कूल की लिची शर्मा 99 प्रतिशत के साथ शहर टॉपर हैं, वहीं बतूल कमरी 98.2 प्रतिशत के साथ शहर में दूसरे नंबर पर हैं। लिची शर्मा ने दो साल से कोई भी सोशल नेटवर्किंग साइट का इस्तेमाल नहीं किया है। लिची शर्मा कॉमर्स स्ट्रीम से हैं। बिजनेस स्टडी में उन्होंने 100, इकोनॉमिक्स में 100, मैथ्स में 98, इंग्लिश में 98 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। उन्होंने बताया कि 10वीं के बाद जैसे ही वे 11वीं में पहुंचीं, उसी दिन से उन्होंने तैयारी शुरू कर दी थी। लिची ने बताया कि 10वीं में उनका सीजीपीए-10 था। लिची ने बताया कि वे रोज 14 से 15 घंटे पढ़ाई करती थीं। इसके अलावा अपनी मां से डिस्कशन भी करती थीं। जानकारी के अनुसार लिची की मां सुरेशा शर्मा सिका स्कूल में साइंस (बायोलॉजी) की शिक्षक हैं। लिची के पापा नहीं हैं और बड़ा भाई मैकेनिकल इंजीनियर हैं। लिची सीए बनना चाहती हैं और फिलहाल सीए की कोचिंग ले रही हैं। उनकी एक महीने की कोचिंग पूरी हो गई है।

देपालपुर विधानसभा में लालवानी का तूफानी जनसंपर्क

99 प्रतिशत के साथ लिची शर्मा बनीं सिटी टॉपर

शहर की सेकंड टॉपर बतूल कमरी ने बताया कि सफलता के लिए उन्होंने पिछले 10 साल के पेपर सॉल्व किए और अपने कमजोर बिंदुओं पर ज्यादा ध्यान दिया। जिन विषयों में वे कमजोर थीं, उन पर ज्यादा फोकस करने के कारण ही उन्हें यह सफलता मिली है। बतूल कॉमर्स से हैं और उन्होंने बिजनेस स्टडी में 100, इकोनॉमिक्स में 100, इंग्लिश में 98, मैथ्स में 95, फिजिकल एजुकेशन में 98 और अकाउंट्स में 92 अंक हासिल किए हैं। बतूल ने बताया कि मैथ्स उन्होंने वैकल्पिक विषय के तौर पर लिया था, लेकिन उन्हें मैथ्स ज्यादा पसंद नहीं है। बतूल का लक्ष्य आईआईएम इंदौर से एमबीए करना है। उन्होंने बताया कि उन्होंने परीक्षा से दो महीने पहले रोज 8 से 9 घंटे पढ़ाई करना शुरू कर दिया था, वहीं सफलता के लिए वे फैमिली फंक्शंस में कम ही गर्इं, ताकि अपनी पढ़ाई पर फोकस कर सके। उनके पिता मुजμफर हुसैन रियल एस्टेट का काम करते हैं। बड़ी बहन आर्किटेक्चर हैं।

Image result for सीबीएसई के 12वीं बोर्ड के नतीजे

अक्षत डागा के 98 परसेंट आए हैं। वह सिटी में तीसरे नंबर पर रहे हैं। अक्षत ने बताया कि उन्होंने मैथ्स और इंग्लिश पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया। अन्य विषयों पर भी ध्यान दिया, लेकिन मैथ्स और इंग्लिश पर ज्यादा फोकस किया। अक्षत ने अकाउंट, बिजनेस स्टडी और इकोनॉमिक्स में 100 अंक हासिल किए हैं। अक्षत की मां मीनाक्षी जितेंद्र डागा ने बताया कि अक्षत ने शुरू से ही पढ़ाई का लोड नहीं लिया। उसकी सफलता का सबसे बड़ा कारण यही रहा कि वह बिना टेंशन के पढ़ाई करता था। अक्षत ने बताया कि उन्होंने अपनी पढ़ाई में एक दिन का भी गैप नहीं किया और नियमित पढ़ाई की। अक्षत ने कहा कि रोज स्कूल और कोचिंग के बाद वे एक से दो घंटे पढ़ते थे, वहीं परीक्षा से करीब दो महीने पहले उन्होंने तीन से चार घंटे नियमित स्टडी की। अक्षय भविष्य में सीए बनना चाहते हैं और वे इसकी प्रिपरेशन भी कर रहे हैं।

मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग के नाम पर अश्लील हरकत

Share.