रालामंडल में प्रशासन करेगा विशेष इंतज़ाम

0

यदि आपको इंदौर का भ्रमण करना है और आप रालामंडल नहीं गए तो आपका घूमना अधूरा माना जाएगा| ऊँची-ऊँची पहाड़ियों और वनों के बीच रालामंडल मालवा के पठार पर पाए जाने वाले कई जीव जंतुओं और पशु-पक्षियों का घर है| शहर के बाहर पूर्वी पहाड़ियों पर इसे रणथंबोर से प्रेरित होकर विकसित किया गया है| यहां आप विविध जीवो को अपने प्राकृतिक वातावरण में विचरण करते हुए देख सकते है | लंगूर, सियार, हिरन के अलावा यहाँ आप बाघ और चीते भी देख सकते है| इंदौर पर्यटन (Best Places To Visit In Indore ) में रालामंडल (Ralamandal Wildlife Sanctuary) स्थित जैव विविधता पार्क का अपना अलग स्थान है|  अब इंदौर के रालामंडल में वन्यजीव पहले से ज्यादा खुशनुमा माहौल में खेलते-कूदते नज़र आएंगे। वन्य जीवों की सुविधा और सुरक्षा के लिए अब यहाँ प्रशासन द्वारा विशेष इंतज़ाम किए जाएंगे |

Krishnapura Chhatri Indore : होलकर राजवंश की धरोहर कृष्‍णपुरा छतरियां

प्रशासन द्वारा किए जाने वाले विशेष इंतज़ामों के तहत जहां हिरण, लोमड़ी, खरगोश और अन्य छोटे वन्य प्राणियों के लिए हरी घास के मैदान होंगे, वहीं साफ पानी के लिए आमजन से धन जुटाया जाएगा। वन विभाग या सरकारी खजाने से बिना रकम निकाले उद्योगपतियों और सामाजिक संस्थाओं की पहल पर रालामंडल का कायाकल्प होगा यानी अब रालामंडल को हरियाली से परिपूर्ण करने के लिए आम जनता की राशि का प्रयोग किया जाएगा।प्राप्त जानकारी के अनुसार, तेंदुए और अन्य मांसाहारी जीवों के लिए मछली और ताजा मटन मुहैया करवाया जाएगा। वेजिटेबल फेंसिंग होगी, जिसके बाद मवेशी बाहर नहीं जा पाएंगे। इंदौर वन मंडल ने अब रालामंडल के कायाकल्प की दिशा में अपने कदम बढ़ाना शुरू कर दिए हैं। पुराने अधिकारियों की रवानगी और नए अफसरों की आमद के ही साथ ही रालामंडल को विकसित करने की योजना बनाना शुरू कर दी गई है।

Ralamandal Wildlife Sanctuary : रालामंडल वाइल्ड लाइफ सेंचुरी

शहर के उद्योगपतियों, समाजसेवियों और वन्यप्रेमियों से लगाव रखने वाले जागरूक लोगों के साथ सीसीएफ एम. कालीदुरई 25 अप्रैल को एक बैठक करने जा रहे हैं, जिसमें वन्य प्राणियों को गोद लेने जैसी योजना पर चर्चा होगी। इस बैठक में रालामंडल के कायाकल्प के लिए संसाधन जुटाने पर जोर दिया जाएगा। विभाग आम लोगों से रालामंडल को एक सेंचुरी के रूप में विकसित करने के लिए सुझाव लेगा।सीसीएफ एम. कालीदुरई का कहना है कि राला मंडल में हमने पाया है कि यहां यदि लोगों के साथ मिलकर काम किया जाए तो बेहतर संभावनाएं बन सकती है। इसे हम एक सेंचुरी पार्क के रूप में विकसित कर सकते हैं। इस दिशा में काम शुरू कर दिया है। इस संबंध में शहर के उद्योगपतियों, सामाजिक संस्थाओं के साथ एक वर्कशॉप करने जा रहे हैं, जिसके बाद आने वाले सुझावों को भी विकास योजना से जोड़ा जाएगा।

Lal Bagh Palace Indore : फाइव स्टार होटलों सा इंदौर का ‘लालबाग पैलेस’

इन सब के अलावा यहाँ बांस प्रोडक्शन का काम भी वन विभाग ने बेंबू सेटम नाम के प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया है| तहत पार्क की 50 फीसदी जमीन पर 27 प्रजातियों के बांस के पौधे लगाने और उनसे रोजगार और कमाई करने का लक्ष्य रखा गया है|

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.