पंकज के सामने शंकर, जानें राजनीतिक सफ़र  

0

लंबे इंतजार के बाद आखिरकार भाजपा ने मध्य प्रदेश की इंदौर लोकसभा सीट से अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। 15 दिनों तक 17 अलग-अलग नामों पर विचार करने के बाद शंकर लालवानी को भाजपा ने अपना प्रत्याशी (BJP Fields Shankar Lalwani From Indore ) बनाया है। इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रहे शंकर लालवानी का मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी पंकज संघवी से होगा। इंदौर सीट पर बीजेपी पिछले आठ लोकसभा चुनाव से लगातार जीतती आ रही है| इस बार लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के इस सीट से चुनाव लड़ने से इनकार के बाद मुख्य दावेदार बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी इस सीट से उतरने से इनकार कर दिया था।

उषा बनेगी इंदौर की ठाकुर

आइये एक नज़र डालते हैं शंकर लालवानी (BJP Fields Shankar Lalwani From Indore ) के पॉलिटिकल करियर पर।

# मुंबई के पवई से आईआईटी की पढ़ाई करने के बाद शंकर लालवानी ने राजनीति को सेवा का क्षेत्र बनाया।

# 1993 में विधानसभा क्षेत्र-4 से लालवानी को बीजेपी अध्यक्ष बनाया गया था। 1996 में हुए नगर निगम चुनाव में उन्हें जयरामपुर वार्ड से टिकट मिला था. इसमें उन्होंने अपने भाई और कांग्रेस प्रत्याशी प्रकाश लालवानी को हराया था और पार्षद बने थे.

# लालवानी ने नगर निगम में सभापति जैसे महत्वपूर्ण पद का कार्यभार संभाला. वे तीन बार पार्षद रहे. कुछ समय बाद पार्टी ने उन्हें नगर अध्यक्ष बना दिया. नगर अध्यक्ष के पद पर रहते हुए ही उन्हें इंदौर नगर निगम प्राधिकरण की जिम्मेदारी दी गई थी.

# वे इंदौर सिंधी समाज, इंदौर स्वर्णकार समाज, मप्र स्वर्णकार संघ के अध्यक्ष रहे।

# भारतीय सिंधु सभा के 10 वर्ष तक अध्यक्ष रहे। अब लोक संस्कृति मंच संस्था के संरक्षक हैं और इसके माध्यम से सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय रहते हैं।

#  सिंधी समाज से आने वाले शंकर लालवानी सुमित्रा महाजन और शिवराजसिंह चौहान के करीबी माने जाते हैं। जानकारी के अनुसार, शिवराजसिंह चौहान ने भी टिकट के लिए शंकर लालवानी की पैरवी की थी।

कांग्रेस की बैठक में बिजली गुल होने पर इंजीनियर निलंबित

इंदौर के स्थानीय नेताओं के विरोध के कारण उनके नाम पर पहले भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व सहमत नहीं था, लेकिन बाद में एक बार फिर उनके लिए शिवराजसिंह चौहान सक्रिय हुए। उसके बाद बड़े नेताओं को भी शिवराज ने मनाया और फिर देर शाम लालवानी के नाम पर मुहर लगी।

क्या है प्लस पाइंट

# लालवानी का भाजपा के सभी नेताओं से समन्वय है। वे मुख्यमंत्री के अलावा दूसरे नेताओं के साथ भी सामंजस्य बनाकर रखते हैं। आमतौर पर ऐसे नेताओं में उनकी गिनती होती है, जो सिर्फ काम को वरीयता देते हैं।

#  इंदौर विकास प्राधिकरण का अध्यक्ष रहते हुए भी उन्होंने जो कार्य किए लोकसभा चुनाव में उन्हीं को सामने रखकर वे जनता के बीच होंगे।

#  सिंधी समाज का इंदौर में वर्चस्व है, जिसे देखते हुए यह वोट बैंक उनके लिए जीत का रास्ता तय कर सकता है।

#  भाजपा में लगातार सक्रिय होने और नगर अध्यक्ष का अनुभव भी उन्हें जीतने में मदद करेगा।

इंदौर से कांग्रेस प्रत्याशी पंकज संघवी का भाजपा को लेकर बड़ा बयान

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.