जीतू सोनी के लोकस्वामी पर चला नगर निगम का बुल्डोजर

0

माय होम (My Home), बेस्ट वेस्टर्न (Best Western), ओ टू (O2) और बंगले के बाद अब फरार जीतू सोनी के अखबार सांझा लोकस्वामी (Jeetu Soni’s newspaper Sanjha Lokswamy office) के दफ्तर पर भी नगर निगम (Indore Municipal Corporation)  का बुल्डोजर चल गया। बुधवार सुबह प्रशासन और नगर निगम की टीम ने यह कार्रवाई की। बताया जा रहा है कि अखबार का दफ्तर भी अवैध तरीके से बनाया गया था।  दफ्तर इंदौर विकास प्राधिकरण(आईडीए) से जमीन लीज पर ली थी, जिसकी लीज आईडीए ने खारिज कर दी।

फरार जीतू सोनी का निगम ने एक और घर किया ज़मीदोज़

Jeetu Soni's Newspaper Sanjha Lokswamy Office Is Crushed By Bulldozer

और नए मामले दर्ज

(Jeetu Soni’s newspaper Sanjha Lokswamy office) मानव तस्करी और कई मामलों में पहले ही जीतू सोनी पर कई मामले दर्ज हैं, और अब जैसे-जैसे ये कार्रवाई बढ़ते जा रही है मामलों की संख्या भी  बढ़ती जा रही है। अब  तुकोगंज थाने (Tukoganj Thana) में आईडीए ने आवंटित प्लॉट पर अवैध कब्जे का प्रकरण दर्ज कराया गया। इसके पहले धोखाधड़ी के दो और मामले दर्ज कराये गए थे। पुलिस ने बताया कि प्रेस कॉम्प्लेक्स में आईडीए ने वर्ष 1987 में दैनिक नवीन इंदौर को प्लॉट नंबर 23 आवंटित किया था, जिसका क्षेत्रफल 1105 वर्गमीटर है। यह लीज रवींद्र पंडित के नाम से आवंटित कि गई थी, लेकिन पंडित ने आईडीए को आवेदन दिया कि दस्तावेज में जो हस्ताक्षर हैं, वे उनके नहीं हैं। उन्होने कहा कि भविष्य में प्लॉट को लेकर पत्र व्यवहार उनके नाम से ही हो और भवन बनाने का प्रमाण-पत्र भी उन्हें ही दिया जाए। इसके बाद ये भवन किराये पर भी दे दिया। आईडीए ने इस पर आपत्ति जताई और  नोटिस जारी करते हुए कहा कि प्राधिकरण द्वारा आवंटित भवन किराए पर नहीं दिया जा सकता।

जीतू सोनी पर रहमदिली की सजा एडीजी वरुण कपूर को मिली ?

Jeetu Soni's Newspaper Sanjha Lokswamy Office Is Crushed By Bulldozer

नोटिस का जवाब नहीं मिलने पर मौके पर आईडीए के दल ने निरीक्षण किया तब पता चला कि भवन पर सांध्य दैनिक संझा लोकस्वामी (Sanjha Lokswamy) और जेडी इवेंट मैनेजमेंट  का बोर्ड लगा है और दोनों का कार्य इसमें संचालित हो रहा है,  जो अवैध  है, इसके लिए आज्ञा नहीं  ली गई थी। आईडीए ने पांच दिसंबर को ही कब्जेधारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया, लेकिन कोई जवाब नहीं आया।  जांच में पाया कि मूल लीजधारी रवींद्र पंडित (Ravindra Pandit) को बेदखल कर रवींद्र निगम ने प्लॉट पर कब्जा किया और उसे जीतू सोनी (Jeetu Soni)को किराए पर दे दिया था।

जीतू सोनी के तीन होटल और मकान पर चला बुलडोजर

         – Ranjita Pathare 

 

 

Share.