विधायक आकाश को नहीं मिला घर का भोजन

0

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और इंदौर के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3 से विधायक आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के अधिकारी उमाकांत काले पर बैट से हमला किया था और बाद में समर्थकों ने उनके कपड़े तक फाड़ दिए थे | इसके बाद एमजी रोड थाना पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार कर लिया था| उन्हें 14 दिन की पुलिस हिरासत में रखा गया है| जेल में उन्हें सख्त नियमों का पालन करना पड़ रहा है|

VIDEO : योगी राज में अपराधियों के लिए अय्याशी का अड्डा बनी जेल

प्राप्त जानकारी के अनुसार, विधायक आकाश विजयवर्गीय को बुधवार रात जेल का भोजन ही करना पड़ा| बुधवार रात विधायक ने जेल के बैरक 6 की सेल में 3 कैदियों के साथ रात बिताई| रात 8 बजे विधायक समर्थक उनके लिए भोजन और नाश्ते का सामान लाए थे, लेकिन जिला जेल अधीक्षक ने उन्हें सामान देने से इनकार कर दिया| पिछली बीजेपी सरकार ने ही जेल में कैदियों के लिए खाद्य सामग्री ले जाने पर रोक लगाई थी|

आकाश विजयवर्गीय ने आज (गुरुवार) सुबह 6 बजे प्रार्थना में हिस्सा लिया और चाय पी| जेल दवाखाने में विधायक का औपचारिक परीक्षण भी किया जाएगा| विधायक से जेल में मुलाक़ात करने के लिए सुबह से ही आज़ाद नगर जेल पर भीड़ लग गई है| सेंट्रल जेल अधीक्षक स्वयं व्यवस्थाओं पर नज़र रखे हुए हैं| इस बीच खबर है कि लोअर कोर्ट से खारिज होने के बाद आज सेशन कोर्ट में विधायक की जमानत के लिए अपील की जाएगी|

विधायक आकाश को नहीं मिला घर का भोजन

उधर, आकाश विजयवर्गीय के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी के कई दिग्गज नेता उतर आए हैं| पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि आकाश का उद्देश्य पवित्र था, लेकिन तरीका गलत हो सकता है| वहीं आकाश विजयवर्गीय के मुद्दे पर पूर्व मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि एक फुटेज देखकर किसी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता, घटना के पहले क्या हुआ था, इसकी पड़ताल ज़रूरी है|

नीरव मोदी के 60 लाख डॉलर जब्त

गौरतलब है कि इंदौर नगर निगम के अधिकारियों की टीम जर्जर मकानों को तोड़ने आई थी| लेकिन आकाश नगर निगम के अधिकारियों पर ही बरस पड़े थे| नगर निगम अधिकारियों की पिटाई करने के मामले में आकाश विजयवर्गीय को 7 जुलाई तक की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है|

Share.