website counter widget

इंदौर सड़क हादसे में चौकाने वाला खुलासा, पुलिस के उड़े होश

0

इंदौर के रालामंडल क्षेत्र में मंगलवार को दो कारों में भीषण टक्कर के बाद 6 लोगो की मौके पर ही मृत्यु हो गई थी जिसमे मृतकों को आर्मी अधिकार और उसका परिवार बताया जा रहा था (Indore Ralamandal Road Accident)। लेकिन इस घटना में एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है जिसने पुलिस के होश उड़ा दिए है। हादसे के बाद पुलिसकर्मियों ने जब मृतक जयप्रकाश झा (Jayaprakash Jha) की क्षतिग्रस्त कार की तलाशी ली तो उसके होश उड़ गए. कार में रखे बैग में वायरलेस सेट, लेफ्टिनेंट कर्नल का आईडी कार्ड, रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) के दस्तावेज और सेना की वर्दी मिली है. इसकी सूचना मिलने पर सैन्य अधिकारी और आर्मी इंटेलिजेंस की टीम जांच करने पहुंची तो पता चला की जयप्रकाश झा सफाईकर्मी था और जो दस्तावेज बरामद हुए वो पूरी तरह से फर्जी थे। नकली दस्तावेज मिलते ही मृतक के बंगले को सील कर दिया गया है. परिवार के वापस आने के बाद बंगले की तलाशी ली जायेगी. मृतक के लैपटॉप और मोबाइल की तहकीकात शुरू कर दी गई है (Indore Accident)। इस प्रकार के फर्जी दस्तावेज मिलने से आर्मी की सूचना लीक होने का शक हो रहा है।

रोमांचक हिंगोट युद्ध में कई लोग घायल

जानकारी के अनुसार मृतक जयप्रकाश झा आर्मी वार कॉलेज महू में सफाईकर्मी के पद पर कार्यरत था . उसके पास से लेफ्टिनेंट स्तर के अधिकारी की वर्दी, आईडी कार्ड, कैंटीन कार्ड, सेना की सील लगा रजिस्टर, गाड़ी के अलावा एक ऐसी फाइल मिली जिस पर एकीकृत मुख्यालय रक्षा मंत्रालय लिखा हुआ है (Indore Ralamandal Road Accident). नकली दस्तावेज मिलना बेहद चौकाने वाला है। जयप्रकाश के लैपटॉप में नये नियुक्ति पत्र भी मिले हैं. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की फर्जी नियुक्ति मामले में जयप्रकाश की भूमिका संदेहास्पद है, जिसकी जांच की जा रही है. आर्मी अधिकारी इस बात की भी जांच कर रहे हैं कि ये कहीं सेना की सूचनाएं तो लीक नहीं कर रहा था. आर्मी इंटेलिजेंस की टीम जयप्रकाश के लैपटॉप और मोबाइल की जांच कर रही है. जबकि उसने फर्जी कार्ड क्यों बनाए थे यह भी जांच का विषय है (Indore Accident).

मोदी के मुरीद ने छाप दिए चांदी के नोट पर मोदीजी

बिहार (Bihar News) के बैशाली नगर में रहने वाला चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जयप्रकाश झा गांव के कुछ लोगों लेफ्टिनेट कर्नल तो कुछ को आर्मी में गनमैन बताता था. जबकि उसने ये भी कहा था कि सैन्य अधिकारी बनने के बाद रक्षा मंत्रालय की ओर से उसे सुरक्षा दी गई है। इंदौर (Indore News) पुलिस के एडीशनल एसपी प्रशांत चौबे ने बताया कि पुलिस को जयप्रकाश के पर्स से लेफ्टिनेंट कर्नल धीरेंद्र कुमार के आईडी कार्ड भी मिले हैं. इस बात की जानकारी आर्मी अफसरों देने पर उन्होंने पुलिस को बताया कि लेफ्टिनेंट कर्नल धीरेन्द्र कुमार फिलहाल छुट्टी पर हैं. जयप्रकाश उन्हीं के ऑफिस में काम करता था.

इंदौर में अस्पताल के पास भीषण आग!

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.