मुख्यमंत्री के नाम की दी अधिकारियों को धमकी

0

हाल ही में इंदौर में किसानों का आक्रोश (Farmers’ anger in Ida) देखने को मिला | लगातार कई दिनों से अधिकारियों के रवैये से नाराज़ किसानों का गुस्सा आख़िरकार फूट पड़ा और वे कार्यालय में ही पहुँच गए और हंगामा मचा दिया |

प्राप्त जानकारी के अनुसार, इंदौर विकास प्राधिकरण के कार्यालय में सुपर कॉरिडोर पर आने वाले गांव के किसानों ने जोरदार बवाल मचाया। इन किसानों ने प्राधिकरण के अधिकारियों को मुख्यमंत्री के नाम की धमकी भी दी। इसके साथ ही किसान प्राधिकरण (Farmers’ anger in Ida) के सीईओ की कुर्सी पर भी जाकर बैठ गए। सुपर कॉरिडोर पर आने वाले ग्राम पालाखेड़ी और उसके आसपास के गांव के किसान कल प्राधिकरण जा पहुंचे।

इंदौरवासी गर्मी सहन करने के लिए हो जाएं तैयार

इन किसानों ने पहले तो प्राधिकरण के परिसर में कड़ी धूप में खड़े होकर करीब एक घंटे तक नारेबाजी (Farmers’ anger in Ida) करते हुए प्राधिकरण का विरोध किया, उसके बाद प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी विवेक श्रोत्रिय ने इन किसानों को चर्चा के लिए प्राधिकरण भवन की तीसरी मंजिल पर स्थित बोर्ड रूम में बुलवाया तो वहां पहुंचकर यह किसान सीईओ की कुर्सी पर ही जाकर बैठ गए और वहां पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। इन किसानों की मांग थी कि जिस तरह से प्राधिकरण अन्य योजनाओं में जमीन मालिकों को 40 प्रतिशत विकसित क्षेत्र दे रहा है, उसी तरह हमें भी दिया जाए।

मप्र के देवास में पेड़ से लटका प्रेमी युगल

प्राधिकरण (Farmers’ anger in Ida) का कहना था कि आपको 33 प्रतिशत क्षेत्र दिया जा रहा है और उससे ज्यादा दे पाना हमारे लिए संभव नहीं है। इस पर इन किसानों ने एक झटके में प्राधिकरण के अधिकारियों को यह धमकी भी दे दी कि हमारी बात सुन लो नहीं तो हमें मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास जाना होगा और उन्हें अपनी बात सुनाना होगी।

मेंदोला ने बल्ले से किया कार्यकर्ता को लहूलुहान

किसानों की बात सुनने के साथ ही प्राधिकरण (Farmers’ anger in Ida)  के द्वारा पॉवर पाइंट प्रजेंटेंशन देकर किसानों को अपनी बात से सहमत करवाने की कोशिश की गई। साथ ही यह भी कहा गया कि पहली बार है, जब हम किसानों को उनकी पसंद का प्लॉट उनकी ही जमीन पर दे रहे हैं। प्राधिकरण द्वारा दिए गए इस प्रजेंटेशन का इन किसानों पर कोई असर नहीं हुआ।

Share.