इंदौर हादसे में सामने आई इनकी नाकामी

0

इंदौर में शनिवार देर रात सरवटे बस स्टैंड स्थित चार मंजिला एमएस होटल हादसे में कुल 11 लोगों की मौत हो गई, जबकि 5 घायल हैं| हादसे के बाद शनिवार को रातभर घटनास्थल पर बचाव कार्य और मलबा हटाने का काम फुर्ती से किया गया| मलबे में दबे सभी लोगों को निकालकर उपचार के लिए एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन यह हादसा अपने आप में कई सवालों को जन्म दे रहा है| इस हादसे के बाद नगर निगम की कार्रवाई पर भी सवाल उठ रहे हैं| स्वच्छता के नाम पर शहर में अपनी कॉलर ऊंची करके चलने वाले अधिकारी शहर के प्रति अपनी बाकी जिम्मेदारी से बच रहे हैं|

मुख्यमंत्री ने जताया शोक

इस दर्दनाक घटना पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शोक जताया और हादसे में मारे गए मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपए और घायल लोगों को 50-50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है| वहीं लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने भी हादसे में मृत लोगों और घायलों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की|

कौन है जिम्मेदार

इंदौर में इस समय ऐसी कई इमारतें हैं, जिनकी हालत जर्जर है| नगर निगम को इन जर्जर इमारतों के बारे में खबर होने के बावजूद इन पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जाती है| क्षेत्र में सफाई व्यवस्था के निरीक्षण के लिए निगम के अधिकारी रोजाना क्षेत्र में घूमते थे, लेकिन उन्होंने कभी इस जर्जर भवन की स्थिति पर ध्यान नहीं दिया। यदि नगर निगम पहले से इस इमारत के खिलाफ नोटिस जारी करते तो शायद यह दर्दनाक हादसा टल जाता और 11 लोगों की जान बच जाती|

Share.