website counter widget

आकाश के बाद अब पटवारी के इलाके में नगर निगम का धावा   

0

इंदौर के गंजी कम्पाउंड स्थित मकान को तोड़ने गई  नगरनिगम की टीम के एक अधिकारी के साथ भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और इंदौर के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3 से विधायक आकाश विजयवर्गीय द्वारा बैट से मारपीट किए जाने का मामला राष्ट्रीय स्तर तक उछला था | काफी दिन जेल में रहने के बाद आकाश को जमानत मिली थी| अब एक और विधायक के क्षेत्र में तोड़फोड़ होने वाली है |

एक महीने के भीतर ही कोर्ट ने आरोपी को फांसी की सज़ा दी

दरअसल, अब नगर निगम द्वारा प्रदेश सरकार में उच्च शिक्षामंत्री जीतू पटवारी के विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले बीजलपुर की दो कॉलोनियों के 500 मकानों में तोड़फोड़ की जाएगी। यह तोड़फोड़ नगर निगम करेगा। यह तोड़फोड़ नर्मदा पेयजल योजना की लाइन डालने के लिए की जाएगी। इसके लिए अब इन कॉलोनियों के रहवासी भी तैयार हैं।

शहर में कई कॉलोनियां ऐसी हैं, जहां पानी की समस्या है| पहले इन कॉलोनियों में बराबर पानी आता था, लेकिन अब पिछले कुछ महीनों से इन कॉलोनियों में रहने वाले नागरिकों को पानी की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। इस किल्लत से नागरिक हैरान-परेशान हो गए हैं। इन नागरिकों के द्वारा पार्षद से लेकर विधायक तक को कहा गया, लेकिन कोई परिणाम नहीं निकल सका। इसके परिणाम स्वरूप अब यह नागरिक नगर निगम की शरण में पहुंच गए हैं।

कर्नाटक, गोवा के बाद मध्यप्रदेश सरकार गिराने की तैयारी में मोदी!

ऐसी स्थिति में पटवारी के राऊ विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले बिजलपुर की दो कॉलोनियों मार्तण्ड नगर और गणगौर नगर में भी है। इन कॉलोनियों के रहवासी पानी की किल्लत से परेशान हो गए थे। यह रहवासी अब इस समस्या से मुक्ति चाहते हैं। पिछले दिनों इन रहवासियों के आग्रह पर नगर निगम की जल समिति के प्रभारी बलराम वर्मा ने इन कॉलोनियों का दौरा किया। वहां नर्मदा पेयजल योजना के अधिकारियों को बुलाकर जब उन्होंने चर्चा की तो यह निष्कर्ष निकला कि इन कॉलोनियों में यदि पानी की समस्या का समाधान करना है तो नर्मदा पेयजल योजना की नई लाइन डालना पड़ेगी।

इसके बाद क्षेत्र के रहवासियों की बैठक लेकर वर्मा के द्वारा यह बता दिया गया कि आपकी समस्या का समाधान नई लाइन डाले बगैर नहीं होगा। इस स्थिति को जानने के बाद क्षेत्र के रहवासी भी अपनी कॉलोनी में नई पानी की लाइन डलवाने के लिए तैयार हो गए। इसके बाद यह खुलासा हुआ कि यह लाइन जिस स्थान पर डाली जाएगी उसके लिए इन रहवासियों को अपने घर के आगे का हिस्सा तोड़ना पड़ेगा। यह स्थिति सामने आने पर रहवासी थोड़ा हिचके फिर उन्होंने यह कोशिश की कि बिना तोड़फोड़ के ही नगर निगम के द्वारा लाइन डालने का काम कर दिया जाए, लेकिन जब निगम के अधिकारियों ने मना कर दिया तो फिर यह रहवासी अपने मकानों में तोड़फोड़ करने के लिए तैयार हो गए हैं।

इंदौर पुलिस ने किया सराहनीय कार्य

इन दोनों कॉलोनियों में स्थित करीब 500 मकानों में आगे का 5 से 7 फीट तक का निर्माण तोड़ा जाएगा। इसके लिए नगर निगम द्वारा अपने इंजीनियरों को लगाकर मकानों में निशान लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। निशान लगाने के साथ ही साथ इन कॉलोनियों में रहने वाले नागरिकों से कहा गया है कि वे निशान तक के निर्माण को अपनी इच्छा से खुद ही तोड़ लेवे। इस बारे में पूछे जाने पर बलराम वर्मा ने बताया कि यदि नागरिकों के द्वारा अपने निर्माण खुद नहीं तोड़े जाएंगे तो फिर नगर निगम के द्वारा इन निर्माणों को तोड़ने की कार्रवाई की जाएगी।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.