इंदौर में स्वतंत्रता सेनानियों को किया सम्मानित

0

आजादी हमें अंग्रेजों से तो मिल गई लेकिन आज भी हम अशिक्षा, गरीबी, बेरोजगारी सहित अनेक समस्याओं से जूझ रहे है। स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी कुर्बानियां देकर देश को आजाद तो करवा लिया, लेकिन आज हमारी युवा पीढ़ी इसे संभालकर रखें।  आजादी के 72 सालों बाद भी इन क्षेत्रों  में हमें आजादी का उजियारा फैलाना है। सिर्फ स्वतंत्रता दिवस पर नहीं बल्कि हर दिन अपने दिल में तिरंगा जीवित रखें, यह बात वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी 100 वर्षीय बसंतीलाल पाण्डे ने अपने उद्बोधन में कही। सयाजी क्लब के महाप्रबंधक और पूर्व आई.जी. बीएसएफ मो. जियाउल्लाह यह जानकारी देते हुए ने दी।

आतंकियों के निशाने पर हिंदुस्तान का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर!

सयाजी क्लब के महाप्रबंधक और पूर्व आई.जी. बीएसएफ मो. जियाउल्लाह ने बताया कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बसंतीलाल पाण्डे का शाल-श्रीफल, स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया तो वे अभिभूत हो उठे और आपकी आंखे डबडबा आई, जिससे समारोह में शामिल सभी जनसमुदाय एवं अतिथिगण भावविहिन हो गए।  उन्होंने आगे बताया कि, इस अवसर पर महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने एवं इन्दौर का नाम पूरे देश में कुश्तीकला एवं सशस्त्र कला के क्षेत्र में इन्दौर की पहली महिला कुश्ती कोच नीलिमा बौरासी को भी सम्मानित किया।

Indore में युवक की सिर कुचली लाश मिलने से हड़कंप

बौरासी ने अपने उद्बोधन में कहा कि आज की युवा पीढि़ और बच्चे वाट्सएप, मोबाइल में लगकर अपना कॅरियर खराब कर रहे हैं। युवा पीढ़ी खेल में आकर अपना प्रदर्शन करें, जिससे उन्हें ऊर्जा मिले। समारोह की मुख्य अतिथि सुचित्रा साजिद धनानी ने शाल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित कर उनके कार्यो के प्रति नमन किया। सयाजी समूह ने स्वाधीनता दिवस की 72वीं वर्षगांठ पर सयाजी क्लब प्रांगण में वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी 100 वर्षीय श्री बसंतीलाल पाण्डे ने ध्वजारोहण किया। इस मौके पर शांति कपोत एवं तिरंगे गुब्बारे उड़ाकर आतिशबाजी भी की गई। संचालन मदन परमालिया ने किया।

इंदौर में महिला SI ने सीएसपी सास और पति को बेरहमी से पीटा

Share.