इंदौर : मिनरल वाटर के लिए Domino’s Pizza पर लगा 5 हजार का जुर्माना

0

मिनरल वाटर को लेकर उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) ने एक बेहद ही अहम फैसला सुनाया है। दरअसल जो उपभोक्ता मिनरल वाटर पीना पसंद करते हैं उनके हक़ में उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) ने एक बड़ा फैसला लिया है। कई बार होटल या रेस्टोरेंट में बोतल बंद मिनरल वाटर के लिए अधिक राशि वसूल ली जाती है जिस पर अक्सर लोग ध्यान नहीं देते और न ही बिल देखते हैं। मिनरल वाटर के लिए उसके मूल्य से अधिक राशि चुकाने को लेकर एक उपभोक्ता ने विक्रेता पर 5 हजार रुपए का जुर्माना (Fines 5000 Rupee On Dominos Pizza) ठोक दिया।

Video : छेड़छाड़ पीड़िता को ही पुलिस ने बना दिया वेश्या

इंदौर के कृष्णबाग कॉलोनी निवासी जितेंद्र अरजने लगभग साढ़े 5 साल पुराने मामले को उठाया था। यह मामला ग्राहकों के हितों से जुड़ा हुआ मामला था। दरअसल जितेंद्र 18 नवंबर 2013 को अपने परिवार के साथ पिज्जा खाने के लिए डोमिनोज (Domino’s Pizza) गए हुए थे। डोमिनोज (Fines 5000 Rupee On Dominos Pizza) में पिज्जा के साथ उन्होंने मिनरल पानी की बोतल किनले (Kinley) भी खरीदी थी। उन्होंने 500 एमएल की मिनरल वाटर की बोतल खरीदी जिस पर 20 रुपए एमआरपी लिखी हुई थी। 20 रुपए की इस बोतल के लिए संचालक ने जितेंद्र से 30 रुपए यानी 10 रुपए अधिक वसूल लिए।

BJP महिला नेता Reena Thakur और युवा नेता Upen Pandit का Sex Video Viral…

मिनरल वाटर पर 10 रुपए अधिक वसूले जाने पर जितेंद्र ने उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) में संचालक के खिलाफ शिकायत दायर कर दी। इस मामले में उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) ने डोमिनोज पिज्जा को वसूली गई 10 रुपए की राशि के साथ 5 हजार रुपए मानसिक कष्ट के तौर पर जुर्माना (Fines 5000 Rupee On Dominos Pizza) चुकाने का आदेश जारी कर दिया। यह आदेश उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) के अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा (Omprakash Sharma) और सदस्य सुमित्रा हाथीवाल (Sumitra Hathiwal) ने जारी किया। इतना ही नहीं इस मामले में परिवाद शुल्क के तौर पर 2 हजार रुपए भी चुकाने के निर्देश दिए गए हैं।

Kargil Vijay Diwas Whatsapp Status : इन संदेशों को भेजकर शहीदों को करें नमन

इस मामल में उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) ने अपना आदेश सुनाते हुए कहा कि, “किसी भी वस्तु की एमआरपी में सभी तरह के टैक्स शामिल होते हैं, इसलिए उससे अधिक राशि वसूलने का अधिकार किसी को भी नहीं है।” इसके अलावा फोरम ने कहा कि इस तरह से विक्रेता द्वारा वसूली गई राशि अनुचित लाभ हासिल करने की श्रेणी में आता है। वहीं फोरम ने जितेंद्र की प्रशंसा की और लोगों को अपने हक़ के लिए जागरूक रहने की सलाह भी दी।

Share.