अधिक भीड़ उमड़ने से मची अफरा-तफरी

0

प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के ऐन पहले इंदौर जिले में जरूरतमंद महिलाओं और युवाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया जा रहा है| इसी कड़ी में खालसा स्कूल में रोजगार मेले का आयोजन किया गया, जिसमें पहले दिन बड़ी संख्या में महिलाओं ने हिस्सा लिया| इस मेले में अपेक्षा से अधिक भीड़ उमड़ने से अफरा-तफरी मचती रही, जिसके बाद कलेक्टर निशांत वरवड़े और जिला पंचायत सीईओ नेहा मीणा को व्यवस्थाएं संभालनी पड़ी | हालांकि इस बीच कलेक्टर वरवड़े ने घोषणा की है कि मेला 7 और 8 जुलाई को भी आयोजित किया जाएगा, जिसमें इंटरव्यू से वंचित लोग हिस्सा ले सकते हैं|

उम्मीद के साथ पहुंची महिलाएं

जिला प्रशासन इस मेले के माध्यम से महिलाओं को निजी क्षेत्र में नौकरियां दिलवाने का काम कर रहा है| मेले में आई महिला प्रतिभागियों को स्वरोजगार से भी जोड़ा जाएगा| सभी महिलाएं रोजगार और स्वरोजगार को लेकर बड़ी उम्मीद लेकर मेले में पहुंची थी, जिसमें से कुछ को सफलता मिली वहीं कुछ महिलाओं को खाली हाथ भी लौटना पड़ा| हालांकि महिलाओं का कुछ कर गुज़रने का जज्बा इस मेले में देखने को मिला|

छोटे बच्चों के साथ पहुंची महिलाएं

रोजगार मेले में अनेक महिलाएं छोटे -छोटे बच्चों को अपने साथ लेकर पहुंची थी| उन्होंने अफरा-तफरी के बीच घर पर किए जाने वाले रोजगार की मांग की |  छोटे बच्चे के साथ पहुंची महिला रानू ने बताया कि वह किराना दुकान के लिए मदद चाहती है | मुमताज ने स्वरोज़गार को बढ़ाने की बात कही| मुमताज का कहना है कि वह रेडीमेड के क्षेत्र में काम करना चाहती है|

पहले दिन आईं 20 कंपनियां

इस मेले में पहले दिन निजी क्षेत्र के 20 प्रतिष्ठित संस्थानों ने हिस्सा लिया| दूसरे दिन 40 प्रतिष्ठानों के प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे| इस मेले के माध्यम से 8 हजार जरूरतमंदों को नौकरी देने की प्रक्रिया की जा रही है | मेले में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी नेहा मीणा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे|

Share.