website counter widget

वाणिज्यिक कर अधिकारी कोमल बाली के यहां छापा

0

मप्र में लोकायुक्त की टीम लगातार सक्रिय नज़र आ रही है| प्रदेश में लगातार सख्ती बरतते हुए वह छापामार कार्रवाई कर रही है| इससे काला धन और बेहिसाब संपत्ति रखने वालों में हडकंप मचा हुआ है| हाल ही में कई अफसरों और इंजीनियरों पर लोकायुक्त की कार्रवाई (Komal Bali ) के कई मामले सामने आए हैं| आज यानी 21 मई को भी इंदौर में एक साथ कई स्थानों पर छापामार कार्रवाई कर बेहिसाब संपत्ति जब्त की गई|

ओ भिया..! अपने High Rated Gabru गुरु रंधावा इंदौर आ रहे हैं…

लोकायुक्त की टीम ने आज सुबह साढ़े पांच बजे ऊषागंज छावनी में सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी कोमल बाली (Komal Bali ) के यहां छापा मारा। शुरुआती जानकारी के मुताबिक, उनके पास संयोगितागंज क्षेत्र में दो मकान, देव गुराडिया में एक फॉर्म हाउस, घर पर 49 हजार कैश के अलावा 2 किलो सोना और एक किलो चांदी भी मिली है। टीम को जांच के दौरान महिला अफसर के पास कई लग्जरी गाड़ियां भी मिलीं हैं। आज सुबह लोकायुक्त के 35 अफसरों की टीम ने उनके तीन स्थानों पर एक साथ छापे की कार्रवाई की।

ये महिला अफसर (Komal Bali ) 2006 से इंदौर में पदस्थ हैं। महिला अफसर के चार ठिकानों पर छापे की कार्रवाई चल रही है। 2006 से अगर उनकी तनख्वाह जोड़ी जाए तो तकरीबन 35 लाख रुपए उनकी आय निकालती है। लेकिन उनके पास करोड़ों की संपत्ति मिली है। महिला अफसर के पति भाजपा की शहर कार्यकारिणी के सदस्य हैं। उन्होंने छापे की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए इसे राजनीतिक करार दिया है।

BJP को वोट डाला तो Congress नेता ने की हत्या

सुबह-सुबह ही अफसरों को अपने घर पर देखकर महिला अफसर Komal Bali घबरा गईं। जब उन्हें ये बताया गया कि लोकायुक्त टीम ने छापा मारा तो उन्हें पूरा मामला समझ में आया। फिलहाल टीम बैंक लॉकर के अलावा संपत्ति से जुड़े दस्तावेजों को जांच रही है।

गौरतलब है कि लोकायुक्त की टीम ने 4 मई को सुबह 6 बजे इंदौर विकास प्राधिकरण के सब इंजीनियर गजानन पाटीदार और उनके ठेकेदार और बिल्डर भाई रमेश पाटीदार के अलग-अलग 9 ठिकानों पर छापा मारा था । प्राप्त जानकारी के अनुसार, छापे के दौरान उनके घर से 25 लाख से ज्यादा नकदी मिली थी, इसके अलावा कई किलो सोना और चांदी भी बरामद हुई थी |

गजानन पाटीदार 5 वर्ष पूर्व ही इंदौर विकास प्राधिकरण में इंजीनियर बने थे। उसके पूर्व तक प्राधिकरण में ड्राफ्ट मैन के रूप में काम कर रहे थे। सरकार के द्वारा उन्हें पदोन्नति देकर सब इंजीनियर बनाया गया। शुरू से ही वे प्राधिकरण की प्लानिंग शाखा में ही काम कर रहे हैं।

BLO के पास BJP Flag, Voter Slip और 59 Fake Voter ID जब्त

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.