परशुराम जन्मभूमि पहुंचे मुख्यमंत्री

0

भगवान परशुराम सभी जातियों के भगवान थे और सबके कल्याण के लिए विष्णुजी ने उनका अवतार लिया था। वे अच्छे लोगों की मदद करते थे और सभी जातियों के कल्याण के लिए उन्होंने कार्य किया। उन्होंने सभी जाति के लोगों को शस्त्र और शास्त्र विद्या प्रदान की। वे सभी विषयों में पारंगत थे| आम लोगों को भी भगवान परशुराम से बहुत कुछ सीखना चाहिए|

ये बातें मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने महू के समीप स्थित परशुराम की जन्मस्थली जानापाव में कही| मुख्यमंत्री ने कहा कि जानापाव पहाड़ी को ‘जमदग्नि तीर्थस्थल’ के रूप में विकसित किया जाएगा| इसके लिए आवश्यक बजट प्रदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जमदग्नि तीर्थस्थल को मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना में भी शामिल किया जाएगा, जिससे श्रद्धालु दर्शन के लिए आ सकें। इस पहाड़ी को पर्यटन स्थल और श्रद्धा के केन्द्र के रूप में विकसित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने इस पहाड़ी से निकलने वाली सातों नदियों को पुनर्जीवित करने की बात कही| इन सभी कार्यों के लिए उन्होंने 12 करोड़ रुपए स्वीकृत करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सभी वर्गों के कल्याण के लिए कृत संकल्पित है। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि जानापाव पहाड़ी को श्रद्धा के केन्द्र के रूप में विकसित करने में धन की कमी नहीं आएगी। पिछले 14 वर्षों में इस तीर्थस्थल के लिए अनेक काम किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा इंदौर-भिंड एक्सप्रेस ट्रेन का नाम परशुराम एक्सप्रेस रखने का प्रस्ताव भारत सरकार के रेल मंत्रालय को भेजा जाएगा और इस ट्रेन को महू तक बढ़ाया जाएगा।

Share.