विद्यार्थियों को मिली लैपटॉप की राशि

0

इंदौर संभाग के 6 हजार 350 प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को प्रोत्साहन पुरस्कार स्वरूप लैपटॉप के लिए 25-25 हजार रुपए दिए जा रहे हैं, जिसके लिए उनके बैंक खाते में जमा किए गए| इसी राशि के प्रतीकात्मक वितरण के लिए इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में शिक्षामंत्री विजय शाह के मुख्य आतिथ्य में कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमें इंदौर संभाग के 5 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया।

मुख्यमंत्री को सुना बच्चों ने

विद्यार्थी प्रोत्साहन पुरस्कार कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री शिवराजसिंह का भाषण भी बच्चों को जबलपुर से सीधे प्रसारण के माध्यम से दिखाया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री सिंह ने विद्यार्थियों को लैपटॉप के सही इस्तेमाल की सलाह दी और अपनी सरकार की योजनाओं को गिनवाया| कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री के भाषण के लाइव प्रसारण के पूर्व मंत्री शाह भाषण देने के लिए खड़े हुए, लेकिन सीएम का भाषण शुरू होने से शुभकामनाएं देकर अपनी बात को ख़त्म कर दिया|

नाम लेने से मुंह ख़राब होता है

प्रदेश के शिक्षामंत्री विजय शाह का दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का नाम लेने से मुंह ख़राब होता है| इसी आशय की बात शाह ने इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में आयोजित मुख्यमंत्री विद्यार्थी प्रोत्साहन पुरस्कार समारोह के बाद मीडिया से चर्चा के दौरान कही| उन्होंने इस दौरान शिक्षकों के लिए लाई गई शिक्षा ई-अटेंडेंस को लेकर किसी भी प्रकार की स्थिति स्पष्ट नहीं की|  उन्होने कहा कि विद्यार्थियों ने बड़ी मेहनत से अच्छे अंक प्राप्त किए हैं। उनकी प्रतिभा को देखते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को लैपटॉप देने का निर्णय लिया है। प्रदेश में 67 हजार 615 विद्यार्थियों को लैपटॉप की राशि वितरित की जा रही है।

कुछ बच्चे परेशान

समारोह में कुछ बच्चों को जगह की कमी के कारण सभागृह के बाहर ही रोक दिया गया, जिससे वे न तो मुख्यमंत्री शिवराजसिंह को सुन सके न ही कार्यक्रम में हिस्सा ले सके| इस मामले में विधायक राजेश सोनकर ने कार्यक्रम आयोजकों से भी चर्चा की, लेकिन तब तक कार्यक्रम ख़त्म हो गया| इस दौरान बाहर खड़े बच्चों के चेहरे पर मायूसी देखी गई| विद्यार्थी प्रोत्साहन पुरस्कार कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष कविता पाटीदार, विधायक रमेश मैंदौला, उषा ठाकुर, राजेश सोनकर, कलेक्टर निशांत वरवड़े, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी नेहा मीणा विशेष रूप से मौजूद रहे|

Share.