Indore News : लालवानी की मुश्किलें बढ़ने की आशंका

0

अब लंबे इंतजार के बाद आखिरकार भाजपा ने मध्यप्रदेश की इंदौर लोकसभा सीट (Indore Lok Sabha Seat) से शंकर लालवानी को (BJP Fields Shankar Lalwani From Indore ) अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। अब इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रहे शंकर लालवानी (Shankar Lalwani Contest Lok Sabha Election 2019 From Indore) का मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी पंकज संघवी (Pankaj Sanghavi) से होगा। अब इस मुकाबले में एक और नया पेंच आ गया है, जिससे लालवानी की मुश्किलें बढ़ने की आशंका है|

पंकज के सामने शंकर, जानें राजनीतिक सफ़र  

दरअसल, भाजपा नेता विजय मलानी भी टिकट चाहते थे| लालवानी को टिकट मिलने के बाद विजय मलानी और सिंधी समाज के कुछ लोग नाराज़ हो गए| इसके बाद गुस्साए विजय मलानी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की बात कही| उन्होंने कहा कि वे प्राधिकरण में शंकर लालवानी के कई मुद्दे भी उठाएंगे, जिससे शंकर लालवानी के लिए लोकसभा चुनाव लड़ना काफी  संकट वाला हो जाएगा|

प्राप्त जानकारी के अनुसार, शिवराजसिंह चौहान ने संघ के भैयाजी जोशी के माध्यम से शंकर लालवानी का टिकट करवाया था, वहीं संघ से जुड़े हुए विजय मलानी के टिकट के लिए भी संघ और कई भाजपा नेताओं के बीच जोर-आजमाइश हुई। संगठन महामंत्री स्वयं रामलाल शिवराज सिंह चौहान से बात कर चुके थे, लेकिन लालवानी के नाम पर ही शिवराज सिंह चौहान के नाम की दिलचस्पी रही। संघ के ही माखनसिंह और रामलाल ने विजय मलानी के टिकट के लिए काफी जुगत की| आखिरकार शिवराज सिंह चौहान सफल हो गए और विजय मलानी दो बार की विधानसभा 4 से टिकट मांगकर पीछे रहने के बाद अब लोकसभा में भी संघ और भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की सहमति के बावजूद टिकट पाने में पिछड़ गए|

सूत्र बता रहे हैं कि शंकर लालवानी के टिकट का विरोध करने में सिंधी समाज के ही लोग सुमित्रा महाजन के यहां जाकर डटे थे| ऐसे में नाम तो अंजू चंदू माखीजा का सामने आया, लेकिन उसके पीछे गणित यह था कि इन्दौर से भाजपा सिंधी समाज को टिकट देना चाहती थी क्योंकि पूरे प्रदेश में एक टिकट देकर भोपाल, जबलपुर, इन्दौर और कटनी से सिंधी बाहुल्य लोकसभा सीट पर अपने परम्परागत सिंधी वोट को भाजपा सुरक्षित रखना चाहती थी । इसीलिए शंकर लालवानी को टिकट दिया गया|

25 अप्रैल से सरवटे बस स्टैंड होगा बंद

विजय मलानी का टिकट कटने और शंकर लालवानी का टिकट होने के बाद अब सिंधी समाज में ही विरोध के स्वर उठने लगे हैं। अब देखना होगा कि भाजपा और शंकर लालवानी मलानी को किस तरह अपने समर्थन में करते हैं| सूत्र बता रहे हैं कि युवाओं पर मलानी का इस लोकसभा चुनाव में बड़ा फोकस रहेगा। विजय मलानी की नाराज़गी अब भाजपा किस तरह के दूर करती है, यह आने वाला समय ही बताएगा|

गौरतलब है कि इंदौर सीट से लगातार आठ बार सांसद रहीं लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के चुनाव लड़ने से इनकार किए जाने के बाद मुख्य दावेदार और बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी इस सीट से उतरने से इनकार कर दिया था। इनके अलावा मालिनी गौड़, रमेश मेंदोला, उषा ठाकुर आदि के भी नाम भी सामने आए थे, परन्तु आखिर में संगठन ने शंकर लालवानी का नाम फाइनल किया|

शहर को प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए नगर निगम की पहल

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.