आकाश के खिलाफ इस बीजेपी नेता ने उगला ज़हर

0

मध्य प्रदेश बीजेपी (bjp) के पूर्व मीडिया संपर्क विभाग के पूर्व संयोजक अनिल सौमित्र (anil soumitra) ने अब बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ( Anil Saumitra Controversial Statement on Akash Vijayvargiya) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है| महात्मा गांधी को पाकिस्तान का राष्ट्रपिता कहने के बाद निलंबित हुए अनिल ने कहा है कि निगम अफसर को क्रिकेट के बल्ले से पीटने वाले आकाश के व्यवहार पर प्रधानमंत्री भी नाराज़गी जाहिर कर चुके हैं, लि‍हाजा पार्टी को फौरन उन्हें शो कॉज़ नोटिस देना चाहिए|

आकाश के बाद अब व्यापारियों का नगर निगम से विवाद

आकाश की सफाई मिलने के बाद बीजेपी को उनके खिलाफ सुधारात्मक कार्रवाई भी करनी चाहिए| अनिल सौमित्र ने खेद जताया कि उन्हें सिर्फ एक फेसबुक पोस्ट की वजह से पार्टी ने फौरन निलंबित कर दिया और कारण बताओ नोटिस के जवाब का भी इंतजार नहीं किया|

सौमित्र ने कहा ( Anil Saumitra Controversial Statement on Akash Vijayvargiya) कि प्रधानमंत्री (pm modi) बड़े व्यक्तित्व है| बड़े विचार के नेता हैं| उन्होंने एक संदेश संगठन और समाज को दिया है कि इस तरह का व्यव्हार जो भी करे तो पार्टी को फौरन संज्ञान में लेकर सुधारात्मक कार्रवाई करनी चाहिये, ताकि कार्यकर्ता अच्छे व्यव्हार के साथ पार्टी संगठन के लक्ष्य को पूरा कर सके| उनकी मंशा यही है कि पार्टी के कार्यकर्ता का चाल-चरित्र-चेहरा ठीक रहे| वो ठीक व्यवहार करे क्योंकि उसके व्यवहार से पार्टी की छवि बनती है|

Video : आकाश विजयवर्गीय पर बना ‘Haan Main Bhi Ballebaj Hu Song’ हुआ वायरल

आपको तो निलंबित किया, लेकिन अभी तक आकाश पर कोई कार्रवाई नहीं हुई इस सवाल पर सौमित्र ने कहा इसी वजह से कह रहा हूं कि तीन बड़े नेता जिन पर शो कॉज़ नोटिस जारी हुआ था गांधी जी औऱ गोडसे के बयान पर| जबकि तीनों नेताओं ने अपना पक्ष रखा औऱ मुझे लगता है कि पार्टी उनके पक्ष से संतुष्ट हुई और इसी वजह से आगे कोई कार्रवाई नहीं हुई, लेकिन मेरे मामले में मुझे मेरा पक्ष भी रखने को कहा गया औऱ पार्टी ने मुझे निलंबित भी कर दिया|

आकाश ( Anil Saumitra Controversial Statement on Akash Vijayvargiya) के मामले को लेकर उन्‍होंने कहा कि जैसा माननीय प्रधानमंत्री ने कहा है| पार्टी को उनसे कारण पूछना चाहिये| किस स्थति में और क्यों आपने ऐसा व्यव्हार किया| आकाश विधायक भी है तो किन स्थतियों में ऐसा हुआ| हो सकता है कि कोई सामाजिक मनोवैज्ञानिक हालात हो जिसमें आवेग में आकर उन्होंने ऐसा व्यव्हार किया हो तो उनको अपना पक्ष पार्टी को रखना चाहिये| इसलिेए पार्टी को कारण पूछना चाहिए. हमारे यहां बड़े से बड़े अपराध में अपराधियों को सुधार के लिए दंडित किया जाता है|

आकाश से ज्यादा कैलाश विजयवर्गीय मुश्किल में

मेरा ये कहना है कि तीन लोगों के साथ जैसा व्यव्हार हुआ तो मेरे साथ भी वही व्यवहार हो औऱ मेरा निलंबन वापस हो| साथ ही उन्‍होंने कहा कि पार्टी को आकाश के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए| प्रधानमंत्री की भी ये मंशा होगी कि हर पार्टी का कार्यकर्ता पर कार्रवाई का मतलब ही यही है कि सुधारात्मक कार्रवाई हो ताकि वो हमारा कार्यकर्ता अच्छे व्यव्हार के साथ काम कर पाये|

Share.