अक्सा इंटरनेशनल के 14 स्टूडेंट्स ने भरी कामयाबी की उड़ान

0

इंदौर: एविएशन इंडस्ट्री (Aviation industry) में कॅरियर को लेकर सबसे बड़ी भ्रांति यह है कि इसके लिए सुंदर आकर्षक चेहरा और सुडौल कद काठी होना ज़रूरी है। यही वजह है कि बहुत बढ़िया स्कोप होने के बावजूद युवावर्ग इस फील्ड को नहीं चुनते। लेकिन पिछले कुछ सालों में एविएशन इंडस्ट्री में कई बदलाव हुए हैं। वहां भी काबिलियत को प्राथमिकता दी जा रही है। बढ़िया पर्सनालिटी का मतलब चेहरे और कद काठी ही नहीं है। आपका नॉलेज, कान्फिडेंस, एटिट्यूड और बात करने का लहजा भी इसी में शामिल है। और ऐसे ही युवाओं का सपना साकार कर रहा है एक संस्थान जिसका नाम है अक्सा इंटरनेशन (Aksa International)

ITA awards के बाद अब IIFA 2020 इंदौर और भोपाल में धूम मचायेगा

चौदह छात्रों का विमानन में चयन-

आपको बता दें की मध्य प्रदेश के इतिहास में यह पहली बार है जब किसी संस्थान से चौदह छात्रों को विमानन के क्षेत्र में केबिन क्रू के रूप में चुना गया था। बड़ी संख्या में प्लेसमेंट के साथ यह एक बड़ी उपलब्धि है। “अक्सा इंटरनेशनल” और इसकी टीम ने खुद को साबित किया है कि वे विमानन, आतिथ्य और यात्रा प्रबंधन में नंबर एक क्यों हैं। श्री राहुल पांडे। ( AKSA International ) “अक्सा” के संस्थापक और निर्देशक “और उनकी पूरी टीम बहुत खुश थी क्योंकि प्रतिस्पर्धा की इस दुनिया में केबिन क्रू बनना आसान नहीं है लेकिन प्रशिक्षकों और छात्रों के साहस ने उनके सपनों को वास्तविकता में बदल दिया। प्रशिक्षकों की गुणवत्ता, छात्रों के प्रयास और निर्देशक के मार्गदर्शन ने साबित कर दिया कि कुछ भी असंभव नहीं है। यह एक बड़ी उपलब्धि थी क्योंकि चौदह छात्रों को कभी भी किसी संस्थान से नहीं चुना गया था, लेकिन अक्सा ने ऐसा किया है और इस उपलब्धि के साथ श्री राहुल पांडे ने भविष्य में कई एयरलाइनों की घोषणा की है जो संस्थान में प्लेसमेंट के लिए आने वाले हैं।

Honey trap case: दो लैपटॉप में कैद है हनी के हुस्न का शहद चखने वाले बड़े नेताओं का राज

12वीं पास स्टूडेंट्स को भी  8.40 लाख का पैकेज-

जानकारी के अनुसार ग्रेजुएशन ही नहीं, 12वीं पास स्टूडेंट्स भी इस फील्ड में बेहतर भविष्य बना सकते हैं। अलग अलग कोर्सेस हैं जिनमें स्टूडेंट्स को केबिन क्रू, ग्राउंड ड्यूटी और फ्लाइट स्टीवर्ड की ट्रेनिंग दी जाती है। ( AKSA International ) ये 8 महीने से एक साल तक के कोर्स हैं। यहां स्टूडेंट्स को मार्केट के डिमांड के अनुसार प्रशिक्षित किया जाता है जिसमें उनके व्यावहारिक ज्ञान पर फोकस किया जाता है। ये अकेला ऐसा संस्थान है जहां 12वीं के बाद मात्र एक साल के कोर्स के बाद 8.40 लाख का पैकेज मिल रहा है। कतर की नामी एविएशन संस्थान के साथ ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट के लिए टाईअप है। साथ ही 40 से ज्यादा कंपनियों से प्लेसमेंट के लिए टाईअप है एवं यहां समय समय पर प्लेसमेंट ड्राइव करते हैं।

DAVV के गर्ल्स हॉस्टल में चौकीदार करते हैं बाथरूम में ताकाझांक ?

-Mradul tripathi

Share.