website counter widget

इंदौर के एक चायवाले ने पीएम को लिखा पत्र, आया जवाब

0

इंदौर में अपराध लगातार बढ़ते जा रहे हैं| दुष्कर्म, छेड़छाड़, हत्या और अन्य वारदातों के साथ ही यहाँ धोखाधड़ी के मामले भी लगातार बढ़ते जा रहे हैं | हाल ही में एक चायवाले को भी धोखाधड़ी का शिकार होना पड़ा है| अपने खाते से किसी अन्य व्यक्ति द्वारा फर्जी तरीके से लोन लिए जाने और उसके बाद बैंक द्वारा राशि वसूली के लिए लगातार तकादा किए जाने से परेशान इंदौर के इस चाय वाले ने अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से इच्छामृत्यु की मांग की है |

माया से बदला लेने का ब्लू प्रिंट तैयार

दरअसल, इंदौर के एक चायवाले को प्रधानमंत्री दफ्तर से चिट्ठी आई है| इस चाय वाले ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से इच्छामृत्यु की मांग की थी| पीएमओ ने तत्काल उस पर ध्यान देते हुए चिट्ठी का जवाब दिया है | दरअसल, इंदौर में चाय की दुकान लगाने वाले कैलाश बड़ोनिया ने पीएमओ को चिट्ठी लिखी थी|

प्राप्त जानकारी के अनुसार, कैलाश इंदौर के खातीवाला टैंक इलाके में उज्जैन चौराहा पर चाय की गुमटी लगाते हैं| उनकी शिकायत थी कि दो साल पहले दो बिल्डर्स ने उनके नाम पर फर्ज़ी तरीके से लोन ले लिया| अब बैंक वाले उन्हें लोन वापस करने के लिए नोटिस पर नोटिस भेज रहे हैं| कैलाश ने लिखा था कि वे इससे तंग आ चुके हैं इसलिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से इच्छामृत्यु की इजाज़त देने का अनुरोध किया था|

कैलाश बड़ोनिया की चिट्ठी पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने तत्काल ध्यान दिया और फौरन उनकी चिट्ठी का जवाब दिया| PMO ने राज्य के मुख्य सचिव को कैलाश बड़ोनिया के मामले में कार्रवाई करने का निर्देश दिया है| साथ ही ये भी लिखा है कि कार्रवाई करने के बाद उसकी जानकारी वेबसाइट पर डालें|

मोदी को याद आया मुस्लिमों पर गटर वाला बयान

ये है मामला

इंदौर में चाय की गुमटी लगाने वाले कैलाश बड़ोनिया की शिकायत है कि उन पर जालसाजी कर कुछ लोगों ने बैंक से 10 लाख रुपए का लोन ले लिया| बैंक से इस संबंध में नोटिस मिलने पर उन्हें धोखाधड़ी का पता चला| कैलाश 11 महीने से पुलिस के चक्कर लगा रहे हैं| कार्रवाई न होने पर उन्होंने इच्छामृत्यु के लिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा|

पीएमओ ने एमपी के मुख्य सचिव एसआर मोहंती को कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं| इच्छामृत्यु की मांग करने वाले कैलाश बड़ोनिया ने बताया कि बिल्डर गुरुवीर सिंह, उनके बिल्डर बेटे गुरुदीप सिंह चावला और रणवीर सिंह चावला ने उनके साथ धोखाधड़ी की| बैंक से 20 हजार रुपए का लोन दिलवाने के लिए  गुरुवीर और उनके बेटों ने कई दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवाए थे| लोन तो मिला नहीं उल्टे उसे आंध्रा बैंक से 10 लाख के लोन और विजया बैंक से चार पहिया वाहन का लोन पटाने के नोटिस आने लगे| इसकी शिकायत उन्होंने पुलिस से की थी|

Apple Watch ने बचाई हृदय रोगी की जान

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.