जानिये: कैसे बनी मोहसिन शेख मोदी की बहन

0

रक्षाबंधन का त्यौहार भाई बहन के रिश्ते की अहमियत को बताता है| इस दिन बहन, भाई को जो राखी बंधती हैं, उसकी ड़ोर भले ही कमजोर हो, लेकिन यह रिश्ता हमेशा मजबूत होता है| इस दिन हर बहन अपने भाई की लंबी उम्र और सुखी जीवन की कामना करती है| ऐसे ही जो बहने अपने भाई से दूर होती हैं वे अपने भाई तक राखी पहुंचा देती हैं| वहीं कुछ लोग भाई-बहन न होते हुए भी इस बंधन में बंध जाते हैं| मुस्लिम धर्म में इस त्यौहार को नहीं मनाया जाता है, लेकिन इस धर्म के कुछ लोग हैं जो हिंदुओं के साथ मिलकर इस पर्व को बड़े ही उत्साह से मनाते हैं|

हिंदू-मुस्लिमों के बीच भाई-बहन का रिश्ता सुनने में काफी अजीब लगता है, लेकिन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी मूल की महिला कमर मोहसिन शेख के बीच भाई बहन का रिश्ता दर्शाता है कि त्यौहार मनाने के लिए धर्म कोई पैमाना नहीं है। बीते 36 वर्षों से कमर मोहसिन शेख मोदी को राखी बांध रही हैं| पाकिस्तान से वास्ता रखने के बावजूद वे अपने आप को हिंदुस्तानी मानती हैं|
कमर मोहसिन का जन्म पाकिस्तान में हुआ है| अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि, शादी के बाद जब वह भारत आ गईं तो उन्हें अपने मायके की बहुत याद आती थी| शेख के भारत में ज्यादा रिश्तेदार नहीं थे| उनका कहना है कि वह दिल से भारतीय हैं और भारत में रहने पर उन्हें गर्व है|
कैसे बनी मोदी की बहन
जिस समय कमर मोहसिन मोदी से मिली वह संघ के कार्यकर्ता थे| काम के सिलसिले में दोनों का एक दूसरे से मिलना जुलना होता रहता था| एक बार राखी के दिन वह मोदी से मिली तो उन्होंने उन्हें राखी बांधने के लिए पूछा। इसके बाद मोदी ने खुशी से अपना हाथ आगे बढ़ा दिया| जिसके बाद उन्होंने उन्हें राखी बांध दी| तब से लेकर आज तक वह रिश्ता कायम है।

Share.