कमलनाथ का एक और बड़ा फैसला

0

मध्यप्रदेश की सत्ता पर काबिज होते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों के कर्ज माफी की घोषणा कर दी। अपने चुनावी वादे को पूरा करते हुए कमलनाथ ने शपथग्रहण के दौरान ही कर्ज माफी का ऐलान (Debt Relief Certificates) किया था। कर्जमाफी की घोषणा से जहां किसानों के चेहरे पर ख़ुशी झलक रही है वहीं विपक्षी दल इसे लोकसभा चुनाव की तैयारी मान रहा है। कमलनाथ ने कर्ज माफी का एक और मास्टर स्ट्रोक खेल दिया है।

कांग्रेस ने भी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए कमर कस ली है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए कर्ज माफी पर एक और बड़ा फैसला लिया है। कमलनाथ सरकार ने कर्ज मुक्ति प्रमाण-पत्र (Debt Relief Certificates) बांटने की घोषणा की है। मध्यप्रदेश सरकार ने घोषणा की है कि जिन किसानों का कर्ज माफ़ किया गया है, उन्हें मार्च से पहले कर्ज मुक्ति प्रमाण-पत्र बांटे जाएंगे। कमलनाथ सरकार लोकसभा चुनाव में अपनी जीत पक्की करने के इरादे से लगातार बड़े-बड़े फैसले ले रही है।

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने घोषणा की थी कि सरकार बनने के 10 दिनों के भीतर कर्ज माफी (Debt Relief Certificates) की जाएगी। इसी वादे के आधार पर कांग्रेस को तीनों राज्यों में जीत मिली। कांग्रेस ने जीत के बाद अपने वादे को निभाते हुए तीनों राज्यों में कर्ज माफी का ऐलान किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तीनों राज्य की सरकारों की तारीफ करते हुए कहा कि सरकार बनने के 10 दिनों के भीतर यह वादा पूरा करने की बात कही गई थी, लेकिन इस वादे को दो दिन में ही पूरा कर दिया गया।

किसानों पर फ़िदा कमलनाथ

सीएम कमलनाथ ने किया एक और वादा पूरा

सीएम कमलनाथ ने दिया दिग्विजय को तोहफा

Share.