कमलनाथ-गडकरी की मुलाकात से प्रदेश को फायदा

0

कमलनाथ (kamalnath) के राजनीतिक अनुभव और नरेंद्र मोदी 2.0 की न्यू इंडिया (new india) की नीति एक साथ मिलकर मप्र के विकास की ओर बढ़ रहे है| इंदौर भोपाल हाईवे निर्माण मप्र के विकास की नई इबारत होगा| राजनीति के दो बड़े दिग्गज बीजेपी सरकार में केंद्र मंत्री नितिन गडकरी (nitin gadkari ) और मप्र के सीएम कमलनाथ मिले ( Kamal Nath Meets Union Minister Nitin Gadkari) और नतीजा निकला कि इंदौर भोपाल हाईवे निर्माण को लेकर सारी जिम्मेदारी केंद्र सरकार ने राज्य सरकार पर छोड़ दी|

यह भी तय कमलनाथ को ही करना है कि निर्माण कार्य कब शुरू होगा और राज्य सरकार करेगी या केंद्र सरकार| इससे तो ऐसा ही लगता है कि राजनीति में दो अलग अलग दलों की केंद्र और राज्य सरकारें ‘विकास’ के नाम पर भेदभाव का आरोप पुरानी बातें हो गई हैं| कमलनाथ और केंद्रीय भूतल परिवहन नितिन गडकरी की मुलाकात ने केंद्र -राज्य सरकार के रिश्तों में आई कड़वाहट को कम करने का उदाहरण भी पेश किया है|

अब महाराष्ट्र में बांध टूटने से मौत

अंदाजा इसी बात से लगता है कि खुद मुख्यमंत्री कहते हैं कि नितिन गडकरी ( Kamal Nath Meets Union Minister Nitin Gadkari) से मुलाकात से संतुष्ट हैं और केंद्र ने गेंद हमारे पाले में डाल दी है| हाईवे निर्माण कार्य कब शुरू होगा और कौन करेगा यह भी राज्य सरकार को तय करना है| वहीं, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी एक कदम आगे बढ़कर कहते हैं देश सब का, राजनीति से ऊपर उठकर सबका साथ सबका विकास की नीति पर केंद्र सरकार चल रही| मध्य प्रदेश के लोग और आने वाला वक्त तय करेगा कि हाईवे निर्माण कमलनाथ के राजनीतिक अनुभव की देन है या केंद्र सरकार की नीतियों का परिणाम|

Video : भाजपा पार्षद ने सदन में फेंका कीचड़

कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा (shobha ojha) इस फैसले के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ की रणनीति और अनुभव को श्रेय देती हैं| उन्होंने कहा UPA की सरकार में मंत्री रहे कमलनाथ ने कभी राज्यों के साथ भेदभाव नहीं किया| यही बात कमलनाथ भाजपा नेताओं को याद दिलाते हैं और अब बिना भेदभाव मध्य प्रदेश का विकास करने में मदद मांग रहे हैं|

शोभा ओझा ने कहा कि नरेंद्र मोदी दूसरे कार्यकाल में बदले नहीं हैं, केंद्र सरकार ने मध्य प्रदेश के किसानों का गेहूं नहीं खरीदा, यूरिया का कोटा कम कर दिया| यह सब देख रहे हैं, मगर कमलनाथ दबाव बनाना जानते हैं और काम करवाना जानते हैं| साथ ही केंद्र से कैसे अपने अधिकार लेने है| दूसरी तरफ केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार सबका साथ सबका विकास की नीति पर चल रही है|

ममता सरकार ने दी सवर्णों के आरक्षण बिल को मंजूरी

Share.