जिन्ना हाउस अब अंतरराष्ट्रीय कल्चरल सेंटर होगा

0

पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल मुहम्मद अली जिन्ना का मुंबई स्थित घर जल्द अंतरराष्ट्रीय कल्चरल सेंटर बनेगा। विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि इसकी प्रक्रिया जल्द शुरू होगी। बीते 5 अक्टूबर को भाजपा के विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा ने सुषमा स्वराज को खत लिखकर जिन्ना हाउस को कल्चरल सेंटर में तब्दील करने की मांग की थी। प्रभात लोढ़ की दलील थी कि जिन्ना का यह घर भारत के विभाजन की स्मृति करवाता है।

सुषमा स्वराज ने गुरुवार को लोढ़ा को पत्र भेजकर उनकी मांग की मंज़ूरी की जानकारी दी। सरकार के इस निर्णय पर लोढ़ा ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि बीते दस दिनों से मैं इस दिन का इंतज़ार कर रहा था। मैं इस फैसले के लिए पीएम मोदी और सुषमा स्वराज का शुक्रगुजार हूं।

जिन्ना की फोटो जलाने वाले को 1 लाख रु. इनाम

सुषमा स्वराज ने लोढ़ा को भेजे अपने ख़त में लिखा कि पीएमओ जिन्ना हाउस का नवीनीकरण वैसे ही करेंगे, जैसे दिल्ली के हैदराबाद हाउस को किया गया है। दिल्ली के हैदराबाद हाउस का इस्तेमाल उच्चस्तरीय विदेशी प्रतिनिधिमंडलों और विशिष्ट मेहमानों के साथ द्विपक्षीय बातचीत और उनके सम्मान में भोज आदि के लिए होता है।

1936 में मोहम्मद अली जिन्ना ने मुंबई के पॉश इलाके मलाबार हिल में यह इमारत बनवाई थी। इस इमारत को बनवाने में तब 2 लाख रुपए की लागत आई थी। तब इस इमारत को साउथ कोर्ट कहा जाता था। इमारत 2.5 एकड़ में फैली है और इंडो-गोथिक शैली में बनाई गई है।

आज़ादी के बाद 1982 तक जिन्ना हाउस में ब्रिटिश उच्चायोग रहा। इसके बाद यह सेंट्रल पीडब्ल्यूडी के तहत आया। इसे 1997 में सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए इंडियन काउंसिल फॉर कल्चरल रिलेशंस को सौंप दिया। तब इसे सार्क का उप प्रादेशिक केंद्र बनाने का फैसला किया गया था। विवादों के कारण यह खाली पड़ा रहा और जर्जर हो गया।

जिन्ना से टपके मन्नान पर अटके!

जिन्ना पीएम होते तो भारत-पाक एक होते – लामा

जिन्ना विवाद में कूदे हरियाणा मंत्री

Share.