चीनियों के लिए जारी हुआ ‘भारत छोड़ो’ नोटिस

0

मुंबई में एक मोबाइल फोन निर्माता कंपनी बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंची है। उन्होंने अपने यहां कार्य कर रहे 60 चीनी विशेषज्ञों के लिए जारी भारत छोड़ो नोटिस को चुनौती दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बीते 4 दिसंबर को फॉरेनर रिजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस के कर्मचारियों ने प्लांट का औचक निरीक्षण किया और कथित तौर पर व्यापार वीजा शर्त को तोड़ने के आरोप में 15 दिसंबर को ‘भारत छोड़ो’ नोटिस जारी कर दिया।

कंपनी के मुताबिक, जिस तरह एफआरआरओ द्वारा कार्रवाई की गई, वह समानता और व्यापार के अधिकार का उल्लंघन है। कंपनी के वकील नुशेर कोहली बॉम्बे हाईकोर्ट में न्यायाधिश बीपी धर्माधिकारी और सारंग कोटवाल की बेंच के समक्ष उपस्थित हुए और इसकी सुनवाई क्रिसमस की छुट्टियों से पहले करने की अपील की। उन्होंने इसके पीछे की वजह बताते हुए कहा कि चीनी विशेषज्ञों को तत्काल भारत छोड़ने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि, वीजा की वैधता रहने के बावजूद कम से कम 6 विशेषज्ञ वापस लौट चुके हैं। बेंच ने उनके आग्रह को स्वीकार करते हुए शुक्रवार को सुनवाई की तारीख तय की है।

कोहली के अनुसार, ‘चीनी विशेषज्ञ बिजनेस वीजा के आधार पर पैसिफिक साइबर टेक्नोलॉजी के प्लॉट का निरीक्षण करते हैं। कंपनी और विशेषज्ञों की बात सुने बिना 60 चीनी विशेषज्ञों को भारत छोड़ने का नोटिस जारी कर दिया।’ कंपनी ने बताया, ‘चीनी नागरिकों को कंपनी के ज्वाइंट वेंचर पार्टनर, विदेशों में इसके ग्राहक और सप्लायर द्वारा भेजा गया था। यहां मेक इन इंडिया योजना को बढ़ावा देने के लिए मोबाइल फोन बनाए जाते हैं।’

‘आप’ ने मांगा ‘भाजपा’ से चंदा

इस घोटाले से लालू को मिली राहत

Video : तारीफ-ए-काबिल ‘मामा’

Share.