website counter widget

चंद्रयान 2 : इतने सालों तक चांद के चक्कर लगाएगा ऑर्बिटर

0

चार दिन हो गए हैं और अब तक इसरो विक्रम लैंडर (ISRO Vikram Lander) से संपर्क बनाने में कामयाब नहीं हो पाया है|  वैज्ञानिक लगातार विक्रम लैंडर से संपर्क करने की कोशिश में लगे हैं| हाल ही में यह खबर भी आई की इस मिशन के लिए इसरो नासा (NASA) से भी मदद लेने पर विचार कर रहा है| यह मिशन पूरी तरह से फेल नहीं हुआ है| अब भी ऑर्बिटर चांद की कक्षा के निकट है| जब तक यह ऑर्बिटर रहेगा अब तक भारत का यह मिशन जारी रहेगा|

पाकिस्तान की खैर नहीं, अरुणाचल प्रदेश में युद्ध…

हाल ही में इसरो चेयरमैन डॉ. के. सिवन ने यह बताया है कि, चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर चांद के चारों तरफ 7 साल से ज्यादा समय चक्कर लगा सकता है, लेकिन क्या आपको पता है कि कैसे यह ऑर्बिटर 7 साल तक चांद के चक्कर लगाएगा|

अधिक इधन की वजह से ऑर्बिटर 7 सालों तक चांद के चक्कर लगा सकता है| लॉन्च के समय ऑर्बिटर में  करीब 1697 किलो ईधन था| अभी ऑर्बिटर में करीब 500 किलो ईंधन है जो उसे सात साल से ज्यादा समय तक काम करने की क्षमता प्रदान करता है, लेकिन यह अंतरिक्ष के वातावरण पर भी निर्भर करता है कि वह कितने साल काम करता है| क्योंकि, अंतरिक्ष में आने वाले पिंडों, सैटेलाइटों, तूफानों और उल्कापिंडों से बचने के लिए ऑर्बिटर को अपनी कक्षा में बदलाव करनी पड़ेगी| ऐसे में ईंधन खत्म होगा और ऑर्बिटर का जीवनकाल कम हो जाएगा|

मथुरा में पीएम मोदी ने ‘प्लास्टिक मुक्त भारत’ महाअभियान की शुरुआत की

ऑर्बिटर चांद की कक्षा में 100 किलोमीटर की दूरी पर सफलतापूर्वक चक्कर लगा रहा है| 22 जुलाई को लॉन्च के समय ऑर्बिटर का कुल वजन 2379 था| इसमें ईंधन का वजन भी शामिल है| बिना ईंधन के ऑर्बिटर का वजन सिर्फ 682 किलो है|

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग केस में पत्नी ने किया बड़ा खुलासा

-Hriday Kumar

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.