चंद्रयान 3 : फिर भेजा जाएगा विक्रम लैंडर…

0

इसरो (ISRO) के वैज्ञानिक लगातार चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से संपर्क बनाने की कोशिश कर रहे हैं| चांद के दक्षिणी ध्रुव की सतह पर विक्रम की लैंडिंग को 6 दिन गुजर चुके हैं| लैंडर में कोई टूट फूट नहीं हुई है, लेकिन अब तक उससे संपर्क बनाने की कोशिश सफल नहीं हो पाई है| इसके बावजूद वैज्ञानिक और देश की जनता ने उम्मीद नहीं छोड़ी है|

हाईवे पर दर्दनाक हादसा, 20 लोग…

अब जब वैज्ञानिक विक्रम लैंडर से संपर्क नहीं बना पा रहा हैं तो इसके लिए उन्होंने नई योजना भी तैयार कर ली है| जानकारी के अनुसार, इसरो जल्द ही चंद्रयान-3 पर काम करना शुरू कर देगा और इसके मध्याम से वह अपग्रेडेड विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर को भेजेंगे|

भाजपा का हाथ अब बबीता फोगाट के साथ, बनी भाजपा उम्मीदवार!

इसरो के सूत्रों ने बताया, इसरो ने इस बात पर विचार करना शुरू कर दिया है कि यदि विक्रम लैंडर से संपर्क नहीं हुआ तो वे विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर का अपग्रेडेड यानी आधुनिक वर्जन को चंद्रयान-3 में भेजेंगे|

इसरो द्वारा चंद्रयान-3 में जो लैंडर और रोवर भेजा जाएगा वह बेहतरीन सेंसर्स, पावरफुल कैमरे, अत्याधुनिक नियंत्रण प्रणाली और ज्यादा पावरफुल संचार प्रणाली लगाई जाएगी| चंद्रयान-3 के सभी हिस्सों में बैकअप संचार प्रणाली भी लगाई जा सकता है ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी होने पर बैकअप संचार प्रणाली का उपयोग किया जा सके|

गौरतलब है कि, लैंडिंग के समय विक्रम लैंडर तय सीमा से 500 मीटर दूर जाकर गिरा था, जिस वजह से इसरो का संपर्क विक्रम से टूट गया था| हालांकि ऑर्बिटर अब भी चांद की कक्षा के करीब चक्कर लगा रहा है और इसमें अभी इतना ईधन बाकी है कि यह 7 सालों तक चक्कर चक्कर लगा सकता है|

भारत और चीन के सैनिकों में हुई झड़प: लद्दाख बॉर्डर

-Hriday Kumar

 

Share.