इशाक पल्ला और फिरोज़ अहमद लोन हिरासत में

0

जम्मू कश्मीर में मंगलवार को  नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी द्वारा दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। ये दोनों जम्मू कश्मीर की जेल में अधिकारी हैं। दोनों पर ही आतंकवादियों को मदद देने का आरोप है। इशाक पल्ला जम्मू जेल में डिप्टी सुपरिटेंडेंट और फिरोज़ अहमद लोन मौजूदा समय में जम्मू के अंफाला जेल में सुपरिटेंडेंट के पद पर तैनात हैं। बताया जा रहा है कि इशाक शोपियां का रहने वाला है जबकि अहमद लोन बड़गांव का रहने वाला है।

एनआईए के अनुसार, इन दोनों ने पाक अधिकृत कश्मीर के दो आतंकियों को देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने में मदद की है। आरोप के अनुसार सभी धाराएं लगाकर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आधिकारिक प्रेस रिलीज़ द्वारा इस मामले की जानकारी देते हुए कहा गया है कि यह मामला सुहैल अहमद भट और दानिश गुलाम लोन का है, जिन्हें हाल ही में गिरफ्तार किया गया है| ये पीओके में आतंकी गतिविधि को अंजाम देने के लिए जा रहे थे। ये लोग इशाक पल्ला से प्रेरित थे, जो एक समय श्रीनगर स्थित सेंट्रल जेल में अलग-अलग मामले में बंद था। इसी ने जेल के भीतर से कई षडयंत्र रचे थे।

जेल के डिप्टी सुपरिटेंडेंट के तौर पर तैनात रहते हुए फिरोज़ अहमद लोन ने इशाक पल्ला की मदद की थी। आधिकारिक बयान में कहा गया है कि षडयंत्र को रचने के लिए 25 अक्टूबर 2017 को जेल के भीतर ही बैठक भी की गई थी। एनआईए को इस साजिश के पीछे बड़ा षडयंत्र होने का शक है। फिलहाल दोनों को हिरासत में ले लिया गया है।

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में स्थानीय निकाय और पंचायतों के चुनाव अक्टूबर माह में कराए जाने की योजना पर प्रशासन लगातार काम कर रहा है। इसी बीच हिजबुल मुजाहिद्दीन के स्वयंभू डिविज़नल कमांडर रियाज अहमद नायकू ने मंगलवार को पंचायत चुनावों में भाग लेने वालों को एक बार फिर से धमकी दी है। इसके साथ ही मीडियाकर्मियों को भी आतंकियों के बारे में नकारात्मक रिपोर्टिंग से बाज़ आने की चेतावनी दी है।

Share.