इंदौर में ट्रैफिक पुलिस का आम नागरिक से बुरा बर्ताव

1

इंदौर साफ-सफाई और ट्रैफिक प्रबंधन को लेकर हमेशा ही चर्चा में बना रहता है| अन्य राज्यों के लोग भी यहां की ट्रैफिक व्यवस्था की काफी तारीफ करते हैं, लेकिन अब यहां की ट्रैफिक पुलिस के व्यवहार को लेकर सवाल उठाना शुरू हो गए हैं| महानगर की ट्रैफिक पुलिसकर्मी अब आम वाहन चालकों के साथ सख्ती से पेश आ रही है|

इंदौर में शनिवार को जब एक बाइक चालक ने गीता भवन चौराहे का सिग्नल तोड़ दिया तो ट्रैफिक पुलिस उसके साथ बड़ी सख्ती से पेश आई| इस घटना के कुछ फोटो भी सामने आए हैं, जिसमें आप देख सकते हैं कि किस तरह ट्रैफिक पुलिसकर्मी बाइक चालकों को मारने की कोशिश कर रहा है| जब बाइक चालकों ने अपनी बाइक रोक ली तो ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उसके साथ बड़ी ही बदतमीजी के साथ व्यवहार किया और उनको पिटा |

इससे पहले भी इस तरह की कई घटनाएँ सामने आई , श्रीमाया होटल के चौराहे पर भी एक पत्रकार की गाड़ी रोक कर उसके साथ बदतमीजी की गई थी उसपर काफी विवाद हुआ था| नो पार्किंग में खड़ी  एक गाड़ी को टो करने के मामले में भी कुछ दिनों पूर्व एमजी रोड पर भी  विवाद हुआ था जिसमें एक बुजुर्ग ,एक महिला और बच्चे के साथ दुर्व्यवहार हुआ था जिसकी विडियो भी काफी दिनों तक सोशल मीडिया पर चलती रही थी |3 दिन पूर्व भी यहीं   गीता भवन चौराहे पर एक बाइक चालक सिग्नल तोड़ते हुए निकल रहा था तो ट्रैफिक पुलिस वाले ने उसे मारने की कोशिश की| गनीमत रही कि वह बाइक चालक बच गया| यदि चलती  बाइक पर पुलिस की मार उसे लग जाती तो शायद वह पास से निकल रही बस से जाकर टकरा जाता और यहाँ एक बड़ी दुर्घटना हो जाती |

इंदौर की ट्राफिक  पुलिस  यदि सिर्फ चालान बना कर अपने खजाने को भरने की मुहीम को छोड़ कर इंदौर के बिगड़ते ट्राफिक को सही करने के लिए प्रयास करे तो शायद इंदौर के आम आदमी को जाम और भीड़ से कुछ राहत मिले|

इंदौर: ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों में 78 प्रतिशत कार चालक

Video: पुलिस कर रही है संदिग्ध महिला से पूछताछ 

Share.