इंदौर: अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जुड़े गिरोह के तार

0

इंदौर क्राइम ब्रांच ने महंगी कंपनी के मोबाइल फोन चोरी करने और उन्हें विदेश में जाकर बेचने वाले एक गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इस गिरोह के तार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जुड़े होने की बात सामने आई है। पुलिस ने इस गिरोह का भंडाफोड़ पिछले दिनों मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर किया| पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ लोग एप्पल कंपनी के आईफ़ोन अवैध रूप से खरीद-फरोख्त में लिप्त हैं । इसी सूचना के चलते क्राइम ब्रांच की टीम ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया, जिनके कब्जे से 35 मोबाइल ज़ब्त किए गए हैं ।

ज़ब्त मोबाइल फ़ोन की कीमत 25 लाख

इंदौर क्राइम ब्रांच के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेंद्रसिंह ने बताया कि ज़ब्त मोबाइल फ़ोन की कीमत 25 लाख रुपए है| आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि पुलिस गिरफ्त में आए गिरोह के सदस्य चोरी के मोबाइल फोन मुंबई-दिल्ली सहित अन्य राज्यों से खरीदते थे और फिर इन्हें विदेशों में बेच देते थे | पुलिस को इनके कब्जे से 35 महंगे फोन मिले हैं| इसके अलावा इस बात का भी खुलासा हुआ  है कि इस गिरोह की जड़ें देशभर में फैली हुई हैं|

पुलिस के अनुसार गिरोह के सदस्य मोबाइल शोरूम से और अन्य जरिये से आईफोन चोरी करते या करवाते थे और इसके बाद इन चोरी के फोन की  अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तस्करी करते थे। इस गिरोह से पुलिस को एक आई -20 कार भी मिली है, जिसका उपयोग गिरोह चोरी की वारदातों को अंजाम देने के लिए किया करता था |

चाइना भागने की फिराक में थे गिरोह के सदस्य

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार हुए गिरोह के सदस्य पुलिस की पकड़ में आने से पहले चाइना भागने की फिराक में थे, लेकिन उनके फरार होने के मनसूबे पूरे  होते, उससे पहले ही पुलिस ने तीनों शातिर आरोपियों को अपनी ग़िरफ़्त में ले लिया| क्राइम ब्रांच के हत्थे चढ़े तस्करों के नाम मनीष तेजवानी,  भारत और शाहबाज़ है।

रिमांड लेकर पूछताछ करेगी पुलिस

पुलिस को इस गिरोह से अभी लम्बी पूछताछ करनी है| पुलिस को उम्मीद है कि आरोपियों से और भी कुछ बड़े खुलासे हो सकते हैं| पुलिस इन सभी से कोर्ट से रिमांड लेने के बाद कड़ी पूछताछ करेगी|

Share.