राजनीति का शिकार हो रहा प्रमुख मार्ग 

3

सरवटे बस स्टैंड से गंगवाल बस स्टैंड तक बनने वाली 80 फ़ीट चौड़ी सड़क के लिए अपने हाथों से घर तोड़ चुके रहवासी पिछले तीन माह से नई सड़क का इंतज़ार कर रहे हैं| इंदौर नगर निगम ने तीन माह पहले सड़क बनाने के लिए इस मार्ग में बाधा बन रहे सभी मकानों को नोटिस देकर निशान लगाए थे| इसके बाद रहवासियों ने अपने-अपने मकानों को अपने हाथों से तोड़ लिया था, लेकिन सड़क का काम अब तक शुरू नहीं किया जा सका है|

शहरवासियों को भी है सड़क का इंतज़ार

हाथीपाला से शुरू हो रही यह सड़क सरवटे बस स्टैंड, जूनी इंदौर होते हुए रावला, गंगवाल बस स्टैंड तक जाएगी| इस सड़क के बनने का इंतज़ार न केवल इस मार्ग के रहवासियों को है, बल्कि शहरवासियों को भी है| इस सड़क के बनने से जवाहर मार्ग से सटी एक समानांतर सड़क मिलेगी, जिससे इस मार्ग पर बढ़  रहा यातायात का दबाव सीधे तौर पर कम होगा|

नहीं हैं, अधिक परेशानियां

राहगीर सतीश दुबे ने बताया कि इस मार्ग को बनाने में ज्यादा दिक्कतें नज़र नहीं आती है| सरवटे बस स्टैंड से गाड़ी अड्डा और हाथीपाला तक सड़क बन चुकी है| इसके बाद जितने भी मकान सड़क की जद में आ रहे थे, रहवासी अपने हाथों से तोड़ चुके हैं| रावला में सड़क इतनी छोड़ी है कि यहां कोई तोड़-फोड़ करने ज़रूरत नहीं है| इसके बावजूद सड़क नहीं बनाई जा रही है|

मकानों का मलबा घरों के सामने

सड़क के लिए अपने घरों को तोड़ने वाले लोगों ने मकान तोड़े जाने के बाद अपने घरों के सामने से आज तक मलबा नहीं हटाया हैं| लोगों की सोच थी कि  निगम यह काम तो अपने संसाधनों से पूरा करेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ न ही सड़क का काम शुरू हो सका| इस मार्ग पर अब बारिश होने के साथ हालात बेहद ख़राब हो जाते हैं, राहगीर और रहवासी दोनों परेशान होते हैं |

चौड़ाई भी बाधक बनी

इस सड़क के बनने में इसकी चौड़ाई भी बाधक बनी हुई है| मास्टर प्लान के मुताबिक़, इस सड़क को 80 फ़ीट बनाई जाना है | रहवासी चाहते हैं कि सड़क बने तो नक़्शे को ध्यान में रखकर बने, जिससे किसी भी रहवासी के साथ नाइंसाफी न हो और पक्षपात भी नहीं हो जबकि ज्यादातर रहवासियों का मानना है कि सड़क कितनी चौड़ी बने, यह भी तय जनप्रतिनिधि और अधिकारियों को करना है इसलिए जल्द से जल्द फैसला कर सड़क का काम शुरू करना चाहिए |

परिषद् में उठ चुका है मुद्दा

सड़क नहीं बनाए जाने का मामला नगर निगम की परिषद् की बैठक में उठ चुका है| क्षेत्रीय पार्षद जगदीश धनेरिया ने बताया कि वे इस मुद्दे को परिषद् से लेकर महापौर मालिनी गौड़ और आयुक्त आशीषसिंह के सामने उठा चुके हैं, लेकिन सड़क को लेकर चल रही राजनीतिक रस्साकशी है कि दूर नहीं हो रही है| काम से काम विकास के मुद्दे पर राजनीति नहीं होना चाहिए| परेशान रहवासियों को सड़क का इंतजार हैं|

Share.