एटीएम हासिल कर देते थे ‘वारदात’ को अंजाम

1

इंदौर पुलिस ने फर्जी तरीके से सीधे-साधे लोगों के एटीएम हासिल कर जालसाज़ी करने के आरोप में दो युवकों को अपनी गिरफ्त में लिया है| पुलिस के अनुसार, इन आरोपियों ने कई लोगों को अपना शिकार बनाया है| इन बदमाशों के निशाने पर आए सभी लोग भोले- भाले हैं और रुपयों के लालच में आकर अपना एटीएम इन जालसाजों को सौंप रहे थे| यह गिरोह मैट्रिमोनियल साइट्स से डेटा चुराकर, युवकों को ऑनलाइन फ्रेंडशिप क्लब से जोड़ते थे और फिर उनसे पैसे लेकर गरीबों के खातों में डाल देते थे। बाद में यही राशि अपने खाते में ट्रांसफर कर लेते थे। पकड़े गए बदमाशों में एक युवक सायबर एक्सपर्ट है और गोरखपुर यूपी का रहने वाला है | इस मामले में पुलिस को अभी और लोगों की तलाश है|

लोगों ने की शिकायत

एएसपी प्रशांत चौबे ने दोनों जालसाज़ों को गिरफ़्त में लेने के बाद मीडिया को दी जानकारी में बताया कि पकड़े गए बदमाशों की जानकारी पुलिस को लोगों से मिली थी, जिसमें कहा गया था कि कुछ युवक लोगों से एटीएम एकत्रित कर उन्हें रुपयों का लालच देकर जालसाजी की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं | पुलिस की पकड़ में आए बदमाशों के नाम सौरभ पिता अशोक निवासी गोरखपुर यूपी और इंद्र पिता सुरेश तंवर निवासी अनूप टॉकीज इंदौर हैं |

पुलिस को है साथियों की तलाश

पुलिस को इस मामले में अभी पटना और बिहार से भी कुछ बदमाशों को पकड़ में लेना है, जिसके बाद पुलिस खुलासा कर सकेगी किआखिर यह गिरोह किस-किस प्रान्त में फैला है | एएसपी चौबे ने बताया कि सौरभसिंह इंदौर की ही भाग्यश्री कॉलोनी में रहता है| इसने 2013 में वेब टेक नाम से कंपनी खोली थी। इसने कई मैट्रिमोनियल वेब साइट्स से डेटा चुराना कबूला है। पुलिस अब इसके एक साथी धनराज की तलाश कर रही है।

Share.