आई बस लेन और अन्य दो लाइन में कितने यात्री

0

इंदौर हाईकोर्ट में बीआरटीएस कॉरिडोर को लेकर दायर जनहित याचिकाओं पर गुरुवार को अंतिम बहस पूरी हो गई| बहस के बाद न्यायालय ने अपने आदेश को सुरक्षित रख लिया। जस्टिस जायसवाल और जस्टिस पीके अवस्थी की डिवीज़न बेंच में यह याचिका सामाजिक कार्यकर्ता किशोर कोडवानी ने लगाई है|

यह कहा कोर्ट ने

इंदौर हाईकोर्ट में बीआरटीएस कॉरिडोर को लेकर दायर जनहित याचिकाओं पर बहस के दौरान न्यायालय ने याचिकाकर्ता किशोर कोडवानी से कहा कि इस मामले में शासन-प्रशासन की ओर से जो जवाब पेश हुआ है, उसमें यदि कोई लिखित उत्तर देना हो तो पेश करें | साथ ही न्यायालय ने पुलिस और प्रशासन को कहा है कि वे आगामी 3 दिन में लिखित में कोर्ट को बताएं कि कॉरिडोर में आई बस लेन और अन्य 2 लेनों में रोजाना आने वाले यात्रियों की संख्या कितनी है।

सुरक्षित रखा फैसला

इंदौर हाई कोर्ट ने इन दोनों याचिकाओं पर अपना फैसला सुरक्षित कर लिया है। इस मामले में याचिकाकर्ता ने कोर्ट से मांग की है कि कॉरिडोर की सभी लेनों में सभी वाहनों की आवाजाही होने दी जाए। वर्तमान में बीच वाली लाइन में केवल आई बस चलती है और बाकी दो अन्य लेनों में  सामान्य वाहन चलते हैं।

Share.