ट्रांसपोर्टर्स ने कहा – आर-पार की लड़ाई

0

देशभर के ट्रांसपोटर्स के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाने से 95 लाख से अधिक ट्रकों के पहिये थम गए| हड़ताल का असर मध्यप्रदेश के साथ-साथ इंदौर में भी देखा गया| हड़ताल के कारण प्रदेश में जहां 6 लाख से अधिक ट्रकों के पहिये थम गए हैं वहीं इंदौर में 1 लाख ट्रक अलग-अलग व्यापारिक क्षेत्रों में खड़े हो गए हैं | इस बीच प्रांतीय वेलफेयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन से जुड़े ट्रक मालिकों ने संभागायुक्त कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन दिया और अपनी आवाज को बुलंद करने कोशिश की| इस दौरान एसोसिएशन ने आव्हान किया है कि अबकी बार आर-पार की लड़ाई है|

पहले दिन दिखा असर

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के आव्हान पर की जा रही हड़ताल के पहले ही दिन जाम का असर देखा गया| ट्रांसपोर्ट व्यवसाय से जुड़े क्षेत्रों में सन्नाटा पसरा दिखाई दिया| ट्रक खड़े रहे तो दुकानों के ताले ही नहीं खुले| हड़ताल का असर अन्य व्यापारिक क्षेत्रों में भी देखा गया| इस महाहड़ताल से देशभर के 12 करोड़ लोगों के प्रभावित होने की बात भी की जा रही है | इस हड़ताल में प्रदेश के 250 और देशभर के 13 हजार सदस्य शामिल हैं।

संभागायुक्त को ज्ञापन सौंपा

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस की एमपी इकाई के सदस्य और प्रांतीय वेलफेयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन से जुड़े सभी ट्रांसपोर्टर्स ने एकजुट होकर  संभागायुक्त राघवेंद्र सिंह को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय कालरा ने कहा कि देश की जीडीपी में ट्रक सेक्टर का योगदान 4.5 फीसदी होने के बावजूद सरकार इस सेक्टर से जुड़ी समस्याओं का समय रहते निराकरण नहीं कर रही है| एक दिन पहले हुई बातचीत भी बेनतीजा रही| सरकार ने 3 माह का समय मांगा तो शीर्ष नेतृत्व ने असमर्थता जता दी|

ये है प्रमुख मांगें

एसोसिएशन की प्रमुख मांगों में पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने, डीजल की कीमतों पर अंकुश लगाने, टोल टैक्स प्रणाली में सुधार लाने के साथ-साथ पार्ट्स पर लगने वाला 28 प्रतिशत जीएसटी कम करने,  थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम पुनः निर्धारण,  ई-वे बिल जुड़ी समस्या दूर करने, ट्रांसपोर्ट व्यवसाय पर टीडीएस समाप्त करने सहित अन्य मांगें शामिल हैं|

लंगर की सुविधा

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस की एमपी इकाई के सदस्य और प्रांतीय वेलफेयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय कालरा ने बताया कि शुक्रवार सुबह से हड़ताल शुरू हो गई है| ट्रक चालकों के लिए आज से ही लंगर की सुविधा की गई है, जिससे ट्रांसपोर्टर्स के भरोसे अपने घरों से बाहर अपना काम कर रहे साथियों को परेशानी न हो|

Share.