हरिनारायणचारी मिश्र ने बढ़ाया इंदौर का गौरव

2

अपनी बेहतरीन कार्यशैली, सोशल पुलिसिंग के कारण इंदौर के डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र को दिल्ली में वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया| हालांकि व्यस्त होने की वजह से इस पुरस्कार को प्राप्त करने के लिए वे दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा नहीं ले पाए| शनिवार को यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था| डीआईजी की गैरमौजूदगी में इंदौर के एसपी अमरेन्द्रसिंह ने इस पुरस्कार को प्राप्त किया|

दिल्ली में शानिवार को आयोजित भव्य कार्यक्रम में विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह ने उन्हें सम्मानित किया| इस पुरस्कार के लिए देश के 10 अधिकारियों को चुना गया था| डीआईजी मिश्र मध्यप्रदेश के पहले अधिकारी हैं, जिन्हें इस अवॉर्ड से नवाजा गया|

इस सम्मान के लिए मिश्र का चयन उनकी पुलिसिंग के साथ ही समाज के लिए किये गए विभिन्न कार्यों की वजह से किया गया| डीआईजी ने इंदौर में लगातार बढ़ रहे खुदकुशी के मामलों को रोकने के लिए ‘संजीवनी’ हेल्पलाइन शुरू की, जिसकी मदद से कई लोगों की जान बचाई गई|

‘आलंबन’ हेल्पलाइन की मदद से बुजुर्गों को आने वाली समस्याओं के समाधान किए गए| घरों में अकेले रहने वाले बुजुर्गों की रक्षा के लिए उन्होंने ‘नेबर डोर बेल’ स्कीम चालू की गई| पशुओं पर होने वाली क्रूरता को रोकने के लिए शुरू की गयी हेल्पलाइन की मदद से कई पशुओं की जान बचाने का कार्य किया गया|

सोशल पुलिसिंग के आलावा मिश्र की कार्यशैली की वजह से भी अपराधों में कमी आई है| खुद को मिलने वाले अवॉर्ड को डीआईजी ने अपनी पूरी टीम को समर्पित किया है| उनके मुताबिक पूरी टीम द्वारा शानदार काम करने की वजह से ही कप्तान को सम्मान मिलता है|

Share.