इंदौर कलेक्टर निशांत वरवड़े का जुर्माना निरस्त

0

इंदौर कलेक्टर निशांत वरवड़े पर हाईकोर्ट ने जो 50 हजार रुपए जुर्माना ठोका था, उसे सोमवार को निरस्त कर दिया गया| कलेक्टर निशांत बरवड़े ने कोर्ट को बताया कि नामांतरण का काम उनका नहीं है और वे उस दौरान ज़रूरी मीटिंग के लिए इंदौर से बाहर भी थे| उनके इस तर्क को सुनने के बाद कोर्ट ने हर्जाने का आदेश निरस्त कर दिया| पिछले दिनों कोर्ट ने जमीन के एक नामांतरण मामले में यह जुर्माना आरोपित किया था|

गौरतलब है कि करीब नौ वर्ष पुराने मामले पर जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव की बेंच ने यह जुर्माना लगाया था| दरअसल, वर्ष 2009 से चल रही याचिका में कोर्ट ने कलेक्टर निशांत वरवड़े को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित रहने का आदेश दिया था, लेकिन उन्होंने इसका पालन नहीं किया|

छोटा बांगड़दा के कुछ लोगों की जमीन से जुड़े मामले में 2009 से चल रही याचिकाओं में पूर्व में कोर्ट आदेश दे चुकी है, लेकिन उनका पालन नहीं किया गया| इसके बाद 2017 में यह अवमानना याचिका लगाई गई| इसमें अदालत के प्रतिबंध के बाद भी कलेक्टर निशांत वरवड़े ने एक बार समय ले लिया और इसके बाद एक पेशी पर उपस्थित नहीं हुए| पेशी पर अनुपस्थित होने के कारण उन्होंने कोर्ट में हाज़री माफी का आवेदन किया था| इसके बाद कोर्ट ने उन्हें और एक मौक़ा दिया और 29 अगस्त को पेशी पर आने का आदेश सुनाया|

29 अगस्त को हुई सुनवाई के दौरान भी कलेक्टर ने कोर्ट के आदेश का पालन नहीं किया और उस दिन भी अदालत में उपस्थित नहीं हुए, न ही हाज़री माफी का आवेदन किया| इसके बाद याचिकाकर्ताओं की ओर से सीनियर एडवोकेट एके सेठी ने कोर्ट से कहा कि यह सीधे तौर पर न्यायालय की अवमानना का मामला है अतः कलेक्टर के विरुद्ध अवमानना की कार्रवाई की जाए|

OMG: इंदौर कलेक्टर निशांत वरवड़े पर कोर्ट ने लगाया जुर्माना

Share.